पेटीएम पेमेंट गेटवे ने कोविड राहत के लिए एनजीओ को मिल रही दान राशि पर लेन-देन शुल्क को समाप्त करने की घोषणा की

ख़बर शेयर करें

  • इस कदम से एनजीओ को फंड की बचत करने और ज्यादा राहत सामग्रियों के साथ अन्य संसाधनों और सेवाओं को खरीदने में मदद मिलेगी
  • पेमेंट गेटवे सेटअप और उसके मेंटेनेंस के लिए कोई शुल्क नहीं, साथ ही देश के सभी पंजीकृत एनजीओ को मिलने वाले 10 लाख रुपये तक के दान पर कोई लेन-देन शुल्क नहीं
  • तुरंत अकाउंट एक्टिवेशन और सभी डोनेशन की उसी दिन सेटलमेंट की सुविधा
  • ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए पेटीएम ने 12-13 शहरों में ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने का फैसला किया

देहरादून, 11 मई 2021- पेटीएम ने पूरे देश में सभी पंजीकृत एनजीओ को 0% ट्रांजैक्शन फीस पर अपने पेमेंट गेटवे की सेवा देने की घोषणा की है, जिसका उद्देश्य उन संगठनों को त्वरित, निर्बाध और सुचारू कोविद राहत कार्य के लिए अधिकतम संसाधन सुरक्षित करने में मदद करना है यह सेवा 10 लाख रुपये तक के दान पर लागू होगी। इस कदम से एनजीओ को लेन-देन शुल्क के मद में लाखों रुपये की बचत होगी, जिसका उपयोग वे महामारी से प्रभावित लोगों को अधिक सहायता और राहत प्रदान करने के लिए कर सकेंगे।

एनजीओ को जल्द से जल्द डिजिटल भुगतान के सभी विकल्पों को तुरंत स्वीकार करने में मदद करने के लिए कंपनी तत्काल अकाउंट एक्टिवेशन और एक ही दिन में सेटलमेंट की सुविधा के साथ-साथ सेटअप और मेंटेनेंस पर शून्य शुल्क की पेशकश कर रही है। कोविड की वजह से पैदा हुई इस अभूतपूर्व स्थिति के दौरान कंपनी यह सुनिश्चित करना चाहती है कि जो एनजीओ महामारी प्रभावित लोगों को भोजन, दवाइयां, ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराते हुए उनकी मदद के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं, उन्हें इसके लिए जागरूक नागरिकों की तरफ से मिल रही योगदान राशि को प्राप्त करने के लिए 2-3 दिनों तक इंतजार न करना पड़े। पेटीएम ऑल-इन-वन पीजी सेवा के जरिए एनजीओ को उसी दिन रकम मिल जाती है, जिस दिन उसे दान किया जाता है और फिर इसकी मदद से वे तत्काल संसाधनों के इस्तेमाल में जुट जाते हैं।

यह भी पढ़ें -  सीएम हेल्पलाइन पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी होंगे पुरस्कृत

कंपनी पहले से ही यह सेवा देश के कुछ बड़े एनजीओ को दे रही है, जो महामारी के दौरान बेहतर काम करते हुए लोगों की मदद कर रहे हैं। यह टियर-प्प्, टियर-प्प्प् शहरों में और शहरों बाहर कई छोटे गैर सरकारी संगठनों को डिजिटल रूप से अंशदान स्वीकार करने की सुविधा दे रहा है ताकि उनके पास फंड की कमी न हो। पिछले कई सप्ताहों के दौरान पेटीएम पेमेंट गेटवे पर इसके पेमेंट गेटवे के रास्ते विभिन्न एनजीओ को मिलने वाले डोनेशन में 400% बढ़ोतरी देखी गई है।

पेटीएम के प्रवक्ता ने कहा कि, “भारत में एनजीओ हमेशा से ही सामाजिक कल्याण का अभिन्न हिस्सा रहा है। जारी महामारी के दौरान उन्होंने लाखों लोगों को खाना, स्वास्थ्य सेवा, मौद्रिक सहयोग और अन्य सुविधाएं मुहैया कराते हुए काफी अहम भूमिका निभाई है। इस मामले में हमने अपनी भूमिका निभाते हुए उन्हें तुरंत, आसानी से और बिना किसी देरी के फंड उपलब्ध कराए जाने की कोशिश की है। हमारा मकसद एनजीओ को लाखों लोगों की मदद के दौरान सहायता पहुंचाना है ताकि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों की जिंदगी सुरक्षित कर सकें।”

यह भी पढ़ें -  प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करता है काफल

पेटीएम ने हाल में घोषणा की थी कि उसका पेटीएम फाउंडेशन कोविड-19 की उग्र दूसरी लहर के बीच पूरे भारत में अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए 12-13 शहरों में ऑक्सीजन सयंत्र स्थापित करेगा। ये ऑक्सीजन संयंत्र सीधे अस्पतालों के परिसर में ही लगाए जाएंगे जोर पूरे अस्पताल की ऑक्सीजन जरूरतों को पूरा करने में मददगार होंगे। पेटीएम फाउंडेशन द्वारा एआईएफ, ऐक्ट फाउंडेशन और एलवेशन कैपिटल के सहयोग से ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर प्रदान किये जा रहे हैं जिन्हें सरकारी अस्पतालों, कोविड केयर केन्द्रों, निजी अस्पतालों, नर्सिंग होम्स और अन्य जगहों पर भेजा जाएगा।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page