देश / विदेश

व्यापार मंडल के अध्यक्ष मारुति नंदन साह के ससुर सरदार रागबीर सिंह का हुआ निधन, नगर में शोक की लहर

कुमाऊं विश्वविद्यालय शिक्षक संघ नैनीताल कूटा ने पूर्व नगर पालिका सभासद एवम ताल चैनल की निदेशक ईशा साह के पिता...

शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा कुमाऊँ विश्वविद्यालय को मिला 100 करोड़ रुपए का अनुदान

कुविवि में आयोजित हुआ प्रधानमंत्री उच्चतर शिक्षा अभियान योजना (पीएम- उषा) का डिजिटल लोकार्पण कार्यक्रम उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने...

केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट के प्रयासों से कुविवि को मिली एंबुलेंस

कुमाऊं विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों, प्राध्यापको एवम कर्मचारियों को त्वरित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो सके इसलिए कुलपति प्रो० दीवान सिंह रावत...

Big News:- मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, देहरादून ने सीयूएसए  तकनीक का उपयोग करके ट्यूमर को शल्य चिकित्सा द्वारा समाप्त करके एक 41 वर्षीय व्यक्ति की बचाई जान

देहरादून-  मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, देहरादून  ने एक बार फिर सफल सर्जरी के साथ अत्याधुनिक चिकित्सा  और देखभाल के प्रति अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित की है, जिसने 41 वर्षीय महिला मरीज की जान बचाई। अपनी उन्नत सुविधाओं और विशेषज्ञ चिकित्सा टीम के लिए प्रसिद्ध अस्पताल ने एक जटिल दुर्लभ प्रक्रिया, बड़े लीवर हेमांगीओमा को हटाने के लिए नवीन कैविट्रॉन अल्ट्रासोनिक सर्जिकल एस्पिरेटर (सीयूएसए) तकनीक का उपयोग किया। मरीज को पिछले दो वर्षों से अपच और जल्द तृप्ति के लक्षण अनुभव हो रहे थे। मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, देहरादून में परामर्श लेने  पर, सीटी स्कैन से पता चला कि लीवर के बाएं लोब में एक बड़ा हेमांगीओमा है, जिससे पेट पर दबाव पड़ रहा है और दिक्कत  हो रही है। डॉ. मयंक नौटियाल,कंसलटेंट  और एचओडी, लिवर ट्रांसप्लांट, बाइलियरी साइंसेज, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सर्जरी, रोबोटिक सर्जरी, मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल देहरादून की विशेषज्ञता के तहत, मरीज को अत्याधुनिक सीयूएसए तकनीक का उपयोग करके हेमी-हेपेटेक्टोमी प्रक्रिया से गुजरना पड़ा। . पारंपरिक तरीकों के विपरीत, सीयूएसए आसपास के ऊतकों को न्यूनतम क्षति के साथ, यकृत और गुर्दे सहित ठोस अंगों के सटीक विभाजन की अनुमति देता है। सर्जरी के दौरान, लीवर को दो भागों में विभाजित किया गया और ट्यूमर को पूरी तरह से काटकर लीवर का लगभग 40% हिस्सा सुरक्षित रूप से हटा दिया गया। सीयूएसए तकनीक, जो अल्ट्रासोनिक तरंगों और कंपन के माध्यम से गुहिकायन करने की क्षमता के लिए जानी जाती है, ने स्वस्थ ऊतकों से नियोप्लास्टिक ऊतकों को नाजुक रूप से अलग करने की सुविधा प्रदान की, न्यूनतम रक्त हानि सुनिश्चित की और जटिलताओं के जोखिम को कम किया। डॉ. मयंक नौटियाल,कंसलटेंट  और एचओडी, लिवर ट्रांसप्लांट, बाइलियरी साइंसेस, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सर्जरी, रोबोटिक सर्जरी, मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल देहरादून ने कहा, "सीयूएसए तकनीक के उपयोग ने जटिल सर्जरी के प्रति हमारे दृष्टिकोण में क्रांति ला दी है, जिससे हम सुरक्षित सर्जरी  कर सके हैं।  यह उन्नत तकनीक न केवल रोगियों के जटिल सर्जरी  को आसान बनाती  है बल्कि अंतः ऑपरेटिव जटिलताओं के जोखिम को भी कम करती है।" मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, देहरादून उत्तराखंड में  अत्याधुनिक चिकित्सा सेवाओं  में सबसे आगे बना हुआ है, जो सर्जिकल कार्यों  के लिए सीयूएसए तकनीक से सुसज्जित क्षेत्र का एकमात्र अस्पताल है, जो कि उत्कृष्टता और रोगी देखभाल के प्रति अस्पताल की अटूट प्रतिबद्धता  में नए मानक स्थापित कर रहा  है।

Big News – आगामी लोकसभा निर्वाचन को देखते हुए मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने दिए यह निर्देश, इन बातों का रखना होगा ध्यान ?

देहरादून - मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने आगामी लोकसभा निर्वाचन से सम्बन्धित तैयारियों की समीक्षा की कार्मिकों की स्वास्थ्य...

अयोध्या में रामलला के दर्शन कर भावुक हुए धामी ने कहा, रोम-रोम भक्तिमय और प्रफुल्लित हुआ मन

देहरादून। मंगलवार को मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने कैबिनेट सहयोगियों के साथ अयोध्या में रामलला के दर्शन किए।...

विश्व के सबसे बड़े कवि सम्मेलन में हल्द्वानी के युवा कवि गर्वित तिवारी हुए सम्मानित

10 जनवरी विश्व हिंदी दिवस मनाने हेतु बुलंदी साहित्य सेवा समिति के द्वारा विश्व का तीसरा अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन आयोजित...

मदन मेहरा लिखित प्रयोगांक नैनीताल द्वारा प्रस्तुत नाटक “भगतु माया” को मिला प्रथम स्थान

प्रगतिशील सांस्कृतिक पर्वतीय समिति पैंठपड़ाव रामनगर द्वारा 14 से 17 फरवरी 2024 तक आयोजित बसन्त महोत्सव 2024 की ऐतिहासिक सफलता...

You cannot copy content of this page