साहित्य

“जलते जंगल, नष्ट होते बहुमूल्य प्राकृतिक संपदा” : भरत गिरी गोसाई

उत्तराखंड की भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 71% ‌‌(38000 वर्ग किलोमीटर) भूभाग जंगल है। वर्तमान समय…

सेहत और स्वाद का खजाना है जखिया

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला दून विश्वविद्यालय देहरादून, उत्तराखंडजखिया कैपरेशे परिवार की 200 से अधिक किस्मों…

प्राकृतिक श्रोतों के सूखने से पहाड़ पर गहरा रहा है पानी का संकट

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोलादून विश्वविद्यालय, देहरादून, उत्तराखंड रहिमन पानी राखिए बिन पानी सब सून रहीम…

पाताल भुवनेश्वर गुफा की क्या है मान्यता आइये जानते हैं

पाताल भुवनेश्वर के बारे में विशेष विश्व विख्यात पाताल भुवनेश्वर उत्तराखण्ड राज्य के पिथोरागढ जिले…

महादेवी से रामगढ़ के नैसर्गिक सौंदर्य का बखान जि‍सके बाद रहने के लि‍ए खरीदा भवन

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला दून विश्वविद्यालयए देहरादून उत्तराखंडउत्तराखंड है ही ऐसी जगह जहां की हर…

बृज के बाद आइये जानते है कुमाऊं अंचल में कैसा मनाया जाता है होली का उत्सव

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला दून विश्वविद्यालय, देहरादून, उत्तराखंडभारत को तीज-त्योहारों का देश कहा जाता है….

You cannot copy content of this page