नेटाफिम इंडिया ने आज के किसानों की स्थिति में बड़े पैमाने पर बदलाव लाने के लिए पोर्टेबल ड्रिप किट को बाज़ार में उतारा

ख़बर शेयर करें

नेटाफिम इंडिया ने आज के किसानों की स्थिति में बड़े पैमाने पर बदलाव लाने के लिए पोर्टेबल ड्रिप किट को बाज़ार में उतारा

कंपनी ने इस किट के माध्यम से आने वाले साल में 10,000 हेक्टेयर जमीन को ड्रिप-इरिगेशन के दायरे में शामिल करने, तथा पूरे भारत में 25,000 छोटे किसानों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है

सिंचाई के लिए बेहद किफायती एवं सारी खूबियों को एक में शामिल करने वाला यह समाधान, नेटाफिम के विभिन्न उत्पादों को एक छतरी के नीचे लाता है, और एक मॉड्यूलर सिस्टम प्रदान करता है जिससे इंस्टॉलेशन लागत की बचत होती है

देहरादून- सिंचाई के लिए स्मार्ट सॉल्यूशन उपलब्ध कराने वाली देश की अग्रणी कंपनी, नेटाफिम इंडिया ने खेती में बड़े पैमाने पर बदलाव लाने वाली पोर्टेबल ड्रिप किट को बाज़ार में उतारा है दृ सारी खूबियों को एक में शामिल करने वाले इस इरिगेशन सॉल्यूशन को इंस्टॉल करना बेहद आसान है और यह बेहद किफायती मूल्य पर उपलब्ध है। इस किट को खास तौर पर एक एकड़ तक के खेत वाले छोटे किसानों के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसे अतिरिक्त मजदूरी के बिना आसानी से इंस्टॉल किया जा सकता है। नेटाफिम के डीलर नेटवर्क के माध्यम से यह पोर्टेबल ड्रिप किट पूरे भारत में उपलब्ध है। यह रबी और खरीफ फसलों की हर तरह की किस्मों के लिए उपयुक्त है, जिसमें सब्जियां, बेल वाली सब्जियां (कद्दू, खीरा, इत्यादि), बेहद सघन फसलें, आदि शामिल हैं।

इस किट के लॉन्च के माध्यम से, कंपनी ने आने वाले साल में 10,000 हेक्टेयर जमीन को ड्रिप-इरिगेशन के दायरे में शामिल करने, तथा पूरे भारत में 25,000 छोटे किसानों तक पहुंचने का लक्ष्य रखा है।

यह भी पढ़ें -  राष्ट्रीय उपलब्धि हेतु ललित मोहन, डी.के.नेगी व दीपा पाण्डे सम्मानित

आज के किसानों के लिए खेती की प्रक्रियाओं एवं पर्यावरण से जुड़ी विभिन्न जरूरतों को पूरा करने वाले इस किट में नेटाफिम के कई सिस्टम को छतरी के नीचे लाया गया है, जो उपयोगकर्ता के अनुकूल, बेहद हल्के और आसानी से ले जाने योग्य है तथा किसानों की अलग-अलग आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम है। 4500 वर्गमीटर के आकार वाले खेतों की सिंचाई के लिए डिज़ाइन किए गए इस किट के सभी कल-पुर्जों को बड़ी आसानी से जोड़ा जा सकता है, और इस्तेमाल करने के बाद कल-पुर्जों को आसानी से खोलकर इसे सुरक्षित स्थान पर रखा जा सकता है। इसके अलावा, किट में उन्नत एवं बेहद टिकाऊ ड्रिपर्स लगाए गए हैं जो इसके प्रदर्शन को बेमिसाल बनाते हैं।

फ्लेक्सनेटन्न् (थ्समÛछमजन्न्) इस किट का सबसे महत्वपूर्ण घटक है – अभूतपूर्व तकनीक वाली यह प्रणाली रिसाव- रहित एवं बेहद लचीले ढंग से मेनलाइन सॉल्यूशन और कई प्रकार के पाइपिंग सॉल्यूशन प्रदान करती है। यह पानी की अधिकतम बचत करने के साथ-साथ शानदार प्रदर्शन की वजह से फसल की पैदावार को भी बेहतर बनाता है। पेटेंट कराए गए आउटलेट्स और पाइप के बीच एकदम सही सीलिंग की वजह से खर-पतवार में कमी आती है तथा खेतों में कहीं भी कीचड़ जमा नहीं हो पाता है, और इस तरह सालों-साल उम्दा प्रदर्शन की गारंटी मिलती है। इसमें लैटरल कनेक्टर्स की पूरी लाइन मौजूद है, जिसे नेटाफिम के सभी सिस्टम के साथ जोड़ा जा सकता है। सफ़ेद रंग की वजह से यह ज्यादा गर्म नहीं होता है, साथ ही यह बहुत अधिक रसायनों एवं यूवी किरणों को आसानी से सहन कर सकता है।

यह भी पढ़ें -  जनपद के प्रभारी मंत्री मदन कौशिक लेंगे जिला विकास प्राधिकरण की बैठक

इस इनोवेशन के बारे में बात करते हुए, श्री रणधीर चौहान, मैनेजिंग डायरेक्टर – नेटाफिम इंडिया, ने कहा, “नेटाफिम इंडिया किसानों के लिए खेती के तरीके को आसान बनाने, और उन्हें विकास के रास्ते पर आगे बढ़ने में मदद करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। हमें मालूम है कि भारत में ज्यादातर किसानों के पास खेती के लिए 1 एकड़ से भी कम जमीन है। इस तरह की परिस्थितियों के कारण उनके लिए खेती करना बेहद कठिन और चुनौतीपूर्ण कार्य बन जाता है। नेटाफिम ने किसानों, खासतौर पर छोटे किसानों की उपज क्षमता और उत्पादकता को बेहतर बनाने के उद्देश्य से टेक्नोलॉजी को निरंतर सुविधाजनक बनाने का संकल्प लिया है, और यह पोर्टेबल ड्रिप किट कंपनी के इसी संकल्प का परिणाम है। इस तरह किसानों की लागत व् श्रम में कमी आती है तथा खेती में पानी का बेहतर ढंग से उपयोग करना संभव हो पाता है।”

इस पोर्टेबल ड्रिप किट में स्क्रीन फिल्टर, फ्लेक्सनेट पाइप, ड्रिपलाइन और कनेक्टर्स सहित खेतों में इंस्टॉलेशन एवं इसके संचालन के लिए सभी आवश्यक घटक मौजूद हैं।

1800.103.2000 – [email protected]

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page