“जलते जंगल, नष्ट होते बहुमूल्य प्राकृतिक संपदा” : भरत गिरी गोसाई

ख़बर शेयर करें

उत्तराखंड की भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 71% ‌‌(38000 वर्ग किलोमीटर) भूभाग जंगल है। वर्तमान समय मे उत्तराखंड के 40% जंगलों मे भयंकर आग फैली है, जिससे वायु प्रदूषण निरंतर बढ़ता जा रहा है। साथ ही साथ असंख्य जीव-जंतु, पेड़-पौधे भी नष्ट हो रहे है‌। उत्तराखंड सरकार के अनुसार नैनीताल, अल्मोड़ा, बागेश्वर, टिहरी व पौड़ी जिले आग से सर्वाधिक प्रभावित है।

उत्तराखंड के जंगलों मे लगी आग का प्रभाव: वन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार इस साल जनवरी से अभी तक (6 अप्रैल 2021) उत्तराखंड मे जंगलों की आग की 989 घटनाएं घटी है, जिस कारण लगभग 1292 हेक्टेयर जंगल जलकर खाक हो गए है। इन जंगलों की आग के कारण अब तक 6 मानव मृत्यु तथा 4 मवेशी मृत्यु की सूचना दी गई है। साथ ही साथ वनों मे पाये जाने वाले असंख्य जीव-जंतु तथा बहुमूल्य प्राकृतिक वन संपदा भी नष्ट हुए है। 2016 के बाद यह सबसे भीषण आग साबित हुई है। उत्तराखंड मे हाल के वर्षों मे बड़ी पैमानो मे आग लगी है। वर्ष 2020 मे जंगल की आग की 170 घटनाएं तथा 172 हेक्टेयर भूमि क्षतिग्रस्त दर्ज की गई थी। 15 फरवरी से मई के अंत तक आमतौर पर उत्तराखंड के जंगलो मे आग की घटनाएं घटित होती है। इस अवधि को राज्य के वन विभाग ने “फायर सीजन” के रूप में करार दिया है।

यह भी पढ़ें -  महर्षि विद्या मंदिर ताकुला नैनीताल में धूमधाम मनाई गई गाँधी जयंती

जंगलों में लगने वाली आग के प्रमुख कारण: वन विभाग के अनुसार राज्य मे जंगलों मे लगने वाली आग के चार प्रमुख कारण है: स्थानीय लोगो द्वारा जानबूझकर लगाई गयी आग, लापरवाही, खेती से जुड़े गतिविधियां एवं प्राकृतिक कारण।

जंगलों की आग पर काबू पाने के लिए उत्तराखंड सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयास: उत्तराखंड सरकार ने जंगलों की उग्र आग पर काबू पाने के लिए 12000 वन कर्मियो की तैनाती की घोषणा की है। लगभग 1300 फायर स्टेशनों की स्थापना भी की गई है। सरकार द्वारा एक हेल्पलाइन 1800 1804141 भी जारी की गई है, जो जंगलों मे लगने वाली आग की सूचना देने तथा आवश्यक कार्रवाई हेतु सहायक सिद्ध होगी। केंद्र सरकार द्वारा उत्तराखंड के दोनो मंडलों के लिए एक एक मिग-17 हॉलिकॉप्टर जंगलों की भीषण आग पर काबू पाने के लिए प्रदान की गई है, जो कि एक समय में 5000 लीटर पानी ले जाने मे सक्षम है।

यह भी पढ़ें -  निर्जला एकादशी व्रत का क्या है विशेष महत्त्व

जंगलों मे लगी आग पर नियंत्रण की विधियां:
पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित पर्यावरणविद् डॉ० अनिल प्रकाश जोशी के अनुसार सरकार को वन पंचायतो को वनो की रक्षा के लिए अधिकार तथा प्रोत्साहन देना चाहिए। जिससे जंगलों मे लगने वाली आग की घटनाओ पर काबू पाया जा सकता है। साथ ही साथ जन जागरूकता, सरकार द्वारा कठोर कानून बनाकर अनिवार्य रूप से उसका पालन कराया जाना चाहिए।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page