“घर से दूर नौकरी करने वालों को समर्पित”

Ad
ख़बर शेयर करें

घर जाता हूं तो मेरा ही बैग मुझसे चिढ़ता है,
मेहमान हूं अब ये पल- पल मुझे बताता है….
मां कहती हैं, सामान बैग में फौरन डालो,
हर बार तुम्हारा कुछ न कुछ छूट जाता है….
घर पहुंचने से पहले ही लौटने का टिकट,
वक़्त परिंदे सा उड़ता जाता है,
उंगलियों पर ले कर जाता हूं गिनती के दिन,
फिसलते हुए जाने का दिन पास आ जाता है….

अब कब होगा आना सबका पूछना,
ये उदास सवाल भीतर तक बिखराता है,
घर से दरवाजे से निकलने तक,
बैग में कुछ न कुछ भरते जाता हूं….
जिस घर की सीढ़ियां भी मुझे पहचानती थी,
घर के कमरे की चप्पे-चप्पे में बसता था मैं,
लाईट्स, फैन के स्विच भूल डगमगाता हूं…..

यह भी पढ़ें -  राज्यपाल ने रेडक्रास सोसाइटी राज्य शाखा उत्तराखण्ड के बहुउद्देशीय भण्डारगृह (वेयर हाउस) का किया शिलान्यास

पास पड़ोस जहां था बच्चा भी वाकिफ,
बड़े बुजुर्ग बेटा कब आया पूछने चलें आते हैं…
कब तक रहोगे पूछ अनजाने में वो,
घाव एक और गहरा कर जाते हैं….

यह भी पढ़ें -  CM पुष्कर सिंह धामी ने मॉ नैना देवी मन्दिर पहुॅचकर मॉ नैना देवी की पूजा अर्चना कर लिया मॉ का आर्शीवाद

गाड़ी में मां के हाथों की बनी रोटियां,
रोती हुई आंखों में धुंधला जाता है,

लौटते वक़्त वजनी हुआ बैग,

सीट के नीचे पड़ा खुद उदास हो जाता है…..
तू एक मेहमान है अब ये पल मुझे बताता है…..
आज भी मेरा घर मुझे वाकई बहुत याद आता हैं……

Himanshu kumar kohli
S.S.J. University almora

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page