अंत्योदय के प्रणेता पंडित दीनदयाल उपाध्याय

ख़बर शेयर करें

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला
भारत की आजादी से पहले और आजादी के बाद कई ऐसे महापुरुष हुए जिन्होंने अपने बूते समाज को बदलने की पूरी कोशिश की. भारत के कुछ महान नेताओं में एक नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय का भी है आता है जिन्होंने अपने कार्यों से जनता की सेवा की. आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती है. दीनदयाल उपाध्याय बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे. इस महान व्यक्तित्व में कुशल अर्थचिन्तक, संगठनशास्त्री, शिक्षाविद्, राजनीतिज्ञ, वक्ता, लेखक व पत्रकार आदि जैसी प्रतिभाएं छुपी थी. प. दीनदयाल उपाध्याय महान चिंतक और संगठक थे. आरएसएस के एक अहम नेता और भारतीय समाज के एक बड़े समाजसेवक होने के साथ वह साहित्यकार भी थे. पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर, 1916 को ब्रज के मथुरा ज़िले के छोटे से गांव जिसका नाम “नगला चंद्रभान” था, में हुआ था. पं. दीनदयाल उपाध्याय का बचपन घनी परेशानियों के बीच बीता. दीनदयाल के पिता का नाम ‘भगवती प्रसाद उपाध्याय’ था. इनकी माता का नाम ‘रामप्यारी’ था जो धार्मिक प्रवृत्ति की थीं. दीनदयाल जी के पिता रेलवे में काम करते थे लेकिन जब बालक दीनदयाल सिर्फ तीन साल के थे तो उनके पिता का देहांत हो गया और जब तक उन्होंने सातवां वसंत देखा तब तक उनपर से मां का भी साया हट चुका था. 7 वर्ष की कोमल अवस्था में दीनदयाल माता-पिता के प्यार से वंचित हो गये. लेकिन इस सब की फ्रिक किए बिना उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की. सन 1937, इण्टरमीडिएट की परीक्षा दी . इस परीक्षा में भी दीनदयाल जी ने सर्वाधिक अंक प्राप्त कर एक कीर्तिमान स्थापित किया. एस.डी. कॉलेज, कानपुर से उन्होंने बी.ए. की पढ़ाई पूरी की. और यही उनकी मुलाकात श्री सुन्दरसिंह भण्डारी, बलवंत महासिंघे जैसे कई लोगों से हुई जिनसे मिलने के बाद उनमें राष्ट्र की सेवा करने का ख्याल आया. सन 1939 में प्रथम श्रेणी में बी.ए. की परीक्षा पास की लेकिन कुछ कारणों से वह एम.ए. की पढ़ाई पूरी नहीं कर पाएं.हालांकि पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने नौकरी न करने का निश्चय किया और राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के लिए काम करना शुरु कर दिया. संघ के लिए काम करते-करते वह खुद इसका एक हिस्सा बन गए और राष्ट्रीय एकता के मिशन पर निकल चले.स्वाधीनता आंदोलन के दौरान अनेक नेताओं ने पत्रकारिता के प्रभावों का उपयोग अपने देश को स्वतंत्रता दिलाकर राष्ट्र के पुनर्निमाण के लिए किया. प. दीनदयाल राजनीति में सक्रिय होने के साथ साहित्य से भी जुड़े थे और इस क्रम में उनके हिंदी और अंग्रेजी के लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते थे. केवल एक बैठक में ही उन्होंने ‘चंद्रगुप्त नाटक’ लिख डाला था. दीनदयाल ने लखनऊ में राष्ट्र धर्म प्रकाशन नामक प्रकाशन संस्थान की स्थापना की और अपने विचारों को प्रस्तुत करने के लिए एक मासिक पत्रिका राष्ट्र धर्म शुरू की. बाद में उन्होंने ‘पांचजन्य’ (साप्ताहिक) तथा ‘स्वदेश’ (दैनिक) की शुरुआत की.1953 में अखिल भारतीय जनसंघ की स्थापना होने पर उन्हें यूपी का सचिव बनाया गया. पं. दीनदयाल को अधिकांश लोग उनकी समाज सेवा के लिए याद करते हैं. दीनदयाल जी ने अपना सारा जीवन संघ को अर्पित कर दिया था. पं. दीनदयाल जी की कुशल संगठन क्षमता के लिए डा. श्यामप्रसाद मुखर्जी ने कहा था कि अगर भारत के पास दो दीनदयाल होते तो भारत का राजनैतिक परिदृश्य ही अलग होता.पं. दीनदयाल की एक और बात उन्हें सबसे अलग करती है और वह थी उनकी सादगी भरी जीवनशैली. इतना बड़ा नेता होने के बाद भी उन्हें जरा सा भी अहंकार नहीं था. प्रधानमंत्री जी ने मेक इन इंडिया प्रोग्राम को दीन दयाल जी को समर्पित किया.आर्थिक नीति अर्थशास्त्र के बारे में दीनदयाल जी का मानना था कि उद्योग की छोटी छोटी इकाइयाँ होनी चाहिए, जिससे उत्पादन ज्यादा हो. बड़े उद्योगों की स्थापना पूंजीवादी व्यवस्था का आधार है . उन्होंने आधुनिक विज्ञान तकनीक का स्वागत किया किन्तु भारत की प्रगति के लिए छोटे उद्योग-धंधों को हितकर बताया. विचार, सांस्कृतिक मूल्यों को रेखांकित करने के उद्देश्य से दीनदयाल जी ने वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा कुटीर उद्योग, सूक्ष्म-लघु और मध्यम उद्यम आदि को प्रोत्साहन उन्ही विचारों का रेखाचित्रण है. नेहरू के प्लानिंग कमीशन के वो सख्त खिलाफ थे .नरेंद्र मोदी ने पीएम बनने के बाद तत्परता से इसको खत्म किया.स्वतंत्रता के बाद देश की बौद्धिक चेतना को जागृत करने और राष्ट्र के शाश्वत अनेक पत्र-पत्रिकाओं का प्रकाशन किया जिनमे प्रमुख है मासिक राष्ट्रधर्म,साप्ताहिक पाञ्चजन्य तथा दैनिक स्वदेश.राष्ट्र एवम समाज सेवा, दीन दयाल उपाध्याय जी ने आरएसएस के माध्यम से समाज सेवा को अपना लक्ष्य बनाया. 11 फरवरी 1968 को मुगलसराय रेलवे यार्ड में उनकी लाश मिलने से सारे देश में शौक की लहर दौड़ गई थी. उनकी इस तरह हुई हत्या को कई लोगों ने भारत के सबसे बुरे कांडों में से एक माना.डा. श्यामप्रसाद मुखर्जी द्वारा बोले गए यह बोल कि अगर मेरे पास दो दीनदयाल होते तो मैं भारत का राजनैतिक परिदृश्य ही बदल देता बिलकुल सच था. देश में आज ऐसे नेताओं की कमी है जो निजी स्वार्थ छोड़ देश हित की बातें करें.

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page