एसजेवीएन की पाँच परियोजनाओं ने जुलाई, 2021 में रिकॉर्ड 1580 मि. यूनिट का किया उत्पादन

ख़बर शेयर करें

देहरादून – नन्द लाल शर्मा, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन ने अपने परियोजना दौरे के दौरान 1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन और 412 मेगावाट रामपुर हाइड्रो पावर स्टेशन की प्रचालन कार्यकलापों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि वह प्रचालन निष्पादन से पूर्ण रूप से संतुष्ट हैं और बताया कि एसजेवीएन ने जुलाई 2021 में अपनी समस्त उत्पादन इकाइयों, नवीकरणीय परियोजनाओं सहित से, 1580 मि.यू. का विद्युत उत्पादन कर रिकॉर्ड बनाया है, जोकि जुलाई 2020 के 1563 मि.यू. के रिकॉर्ड से अधिक है। वित्तीय वर्ष,2021 में हिमाचल प्रदेश के 02 हाइड्रो पावर स्टेशनों, महाराष्ट्र और गुजरात के 02 पवन विद्युत स्टेशनों और 01 सौर विद्युत स्टेशन सहित पाँच विद्युत स्टेशनों की कुल 8700 मि.यू. डिजाइन ऊर्जा से अधिक 9224 मि.यू. विद्युत का उत्पादन कर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है।

एनजेएचपीएस और आरएचपीएस विद्युत स्टेशनों के प्रमुखों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए, श्री शर्मा ने कहा कि दोनों ‘फ्लैगशिप पावर स्टेशनों’ के प्रचालन और अनुरक्षण के अधिकारियों की संयुक्त टीम के प्रयासों ने कंपनी को विद्युत उत्पादन में नवीन लक्ष्य तराशने में सक्षम बनाया है। श्री शर्मा ने कहा कि एसजेवीएन अपने सभी विद्युत स्टेशनों को अंतर्राष्ट्रीय मानकों के उच्चतम स्तर की क्षमता के साथ प्रचालित करता है। माइक्रो प्लानिंग के साथ सिस्टम की व्यापक मोनिटरिंग ने एसजेवीएन के मेगा विद्युत स्टेशनों को नियमित डिजाइन ऊर्जा और उच्चतम मशीन उपलब्धता बढ़ाने में सक्षम बनाया है। दिनांक 02 अगस्त, 2021 को एनजेएचपीएस ने 39.397 मि.यू. का सर्वोच्च एक-दिवसीय उत्पादन किया है और जुलाई, 2021 में इस परियोजना ने 1216.565 मि.यू. का सर्वोच्च मासिक उत्पादन दर्ज किया है। इसी कड़ी में रामपुर हाइड्रो पावर स्टेशन ने भी जुलाई 2021 में 335.9057 मि.यू. का सर्वोच्च मासिक विद्युत उत्पादन किया है।

यह भी पढ़ें -  अपर मेलाधिकारी डा0 ललित नारायण मिश्र ने कुंभ मेला क्षेत्र के घाटों का अधिकारियों के साथ किया निरीक्षण

एसजेवीएन की भविष्य की योजनाओं को साझा करते हुए श्री शर्मा ने कहा कि कंपनी ने आगामी यात्रा का ब्लूप्रिंट तैयार कर लिया है, जिसे कंपनी के सांझे विजन- वर्ष 2023 तक 5000 मेगावाट, वर्ष 2030 तक 12000 मेगावाट तथा वर्ष 2040 तक 25000 मेगावाट में व्यक्त किया गया है। उन्होने कहा कि एसजेवीएन भारत, नेपाल तथा भूटान में हाइड्रो, ताप, सौर, तथा पवन क्षेत्र में 27 परियोजनाओं को कार्यान्वित कर रहा है, जिनमें 06 परियोजनाएं प्रचालनागत हैं, 08 परियोजनाएं निर्माणाधीन तथा 13 परियोजनाएं सर्वेक्षण एवं अन्वेषणाधीन हैं। नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में कंपनी के व्यवसाय के विस्तार की दिशा में हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा स्पीति घाटी के काज़ा में 880 मेगावाट सोलर पार्क के त्वरित विकास की ज़िम्मेदारी एसजेवीएन को सौंपी गयी है।

यह भी पढ़ें -  वन रक्षक चौकियों एवं रेसक्यू सेन्टरों के लिये आरईएस एवं आरडब्लूडी को किया जायेगा नामित

1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन के दौरे के दौरान श्री नन्द लाल शर्मा ने परियोजना अस्पताल, झाकड़ी में फिजियोथेरेपी केंद्र का उदघाटन किया। इस अवसर पर श्री शर्मा ने कहा कि एसजेवीएन हमेशा अपनी परियोजनाओं के आस-पास रहने वाले लोगों की बेहतरी हेतु सामाजिक दायित्वों के प्रति जागरूक रहा है। एनजेएचपीएस ने स्थानीय लोगों के विकास के लिए कल्याणकारी गतिविधियों हेतु अब तक रु.6877.17 लाख का व्यय किया है।

—————— 0 ——————–

आशीष पंत – वरि.अपर महाप्रबंधक (ज.सं.) द्वारा जारी

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page