बहुउद्देशीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर में उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति एवं कार्यपालक अध्यक्ष मनोज तिवारी मुख्य होंगे अतिथि

ख़बर शेयर करें


नैनीताल – उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति एवं कार्यपालक अध्यक्ष उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण श्री मनोज तिवारी 07 मार्च को प्रातः 10ः30 बजे से मिनी स्टेडियम बेतालघाट में जिला विधिक सेवा प्राधिरण द्वारा आयोजित बहुउद्देशीय विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग करेंगे। यह जानकारी देते हुए सिविल जज (सी0डि) एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नैनीताल श्री इमरान मौ0 खान ने बताया कि शिविर में सामान्य कानूनी जानकारी देने के साथ ही सरकार द्वारा विभिन्न विभागों की ओर से चलायी जा रही अनेकों जन कल्याणकारी योजनाओं के सम्बन्ध में आम जनता को जागरूक करने के साथ ही पात्र व्यक्तियों को लाभांवित करने का कार्य भी किया जायेगा। लोगों को कानूनी जानकारी तथा अधिकारों के प्रति जागरूगता हेतु जिला विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा सरल कानूनी ज्ञान माला पुस्तकों का निःशुल्क वितरण किया जायेगा।
उन्होने बताया कि चिकित्सा विभाग द्वारा आम जनता हेतु निःशुल्क चिकित्सकीय परीक्षण किया जायेगा। श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों हेतु निःशुल्क लाभकारी योजनाओं की जानकारी दी जायेगी। समाज कल्याण विभाग द्वारा आम जनता के लिए शिविर में निःशुल्क जन-कल्याणकारी योजनाओं जैसे अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के व्यक्तियों, निराश्रित विधिवाओं एवं परित्यक्त महिला की पुत्री की शादी, विधवा पुर्न-विवाह, दिव्यांगो से विवाह करने पर प्रोत्साहन हेतु अनुदान, समस्त प्रकार की पेंशन, अत्याचार उत्पीड़न में आर्थिक सहायता, विकलांगों को कृत्रिम अंग,श्रवण यंत्र, अनुसुचित जाति, जनजाति, पिछड़ी जाति व विकलांग छात्रवृति, इत्यादि का पंजीकरण किये जाने हेतु शिविर में सुविधा उपलब्ध होगी।उन्होंने जनता से अधिक से अधिक संख्या में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर में पहुॅच कर शिविर का लाभ उठाने की अपील की।

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page