इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने सर्वश्रेष्ठ पद्धतियों और व्यापक सुरक्षा प्रोटोकॉल्स के साथ प्रदर्शनियों को किया दोबारा शुरू

ख़बर शेयर करें

देहरादून- इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने फिजिकल ट्रेड एक्जिबिशंस की दोबारा शुरूआत की है, जिसे उसकी ऑलसिक्योर एंड ट्रैवेल सेफ्टी गाइड से पूरा सहयोग मिल रहा है। सुरक्षा उपायों के अलावा, इन्फॉर्मा मार्केट्स ने सुरक्षा, ऊर्जा की बचत और पर्यावरण के हितों से सम्बंधित स्थायित्व के कई अभ्यासों पर क्रियान्वयन भी किया है। यह उपाय प्रदर्शनी उद्योग के लिये न्यू नॉर्मल को बेहतर बनाएंगे और आगंतुकों, बाहरी हितधारकों और कर्मचारियों के बीच जरूरी भरोसा और आश्वासन निर्मित करेंगे कि वे एक सुरक्षित, स्थायी और नियंत्रित इकोसिस्टम में भाग ले रहे हैं।

न्यू नॉर्मल के बीच फिजिकल ट्रेड एक्जिबिशंस के लिये इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने ऑलसिक्योर नामक एक अनोखा सुरक्षा मानक बनाया है, जो सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार हितधारकों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को सुरक्षित रखेगा, ताकि प्रदर्शकों और आगंतुकों के लिये सुगम और सुरक्षित अनुभव सुनिश्चित हो सके। यह अंतर्राष्ट्रीय प्रोटोकॉल्स शारीरिक दूरी, सुरक्षा और जांच, सफाई और हाइजीन और इन सिद्धांतों पर विस्तृत संवाद के व्यापक सिद्धांतों पर आधारित हैं।

इन्फॉर्मा मार्केट्स का ट्रैवेल सेफ्टी गाइड कर्मचारियों की सुरक्षा के लिये एक व्यापक दस्तावेज है, जिसे बिजनेस के लिये यात्रा करने वाले कर्मचारियों की देखभाल में सहायता के लिये बनाया गया है। यह सबसे पहले कर्मचारियों की देखभाल पर केन्द्रित है, ताकि वे अपने सर्वश्रेष्ठ तरीके से काम कर सकें।

यह भी पढ़ें -  इग्नू में नए एडमिशन हेतु आवेदन की अंतिम तिथि 31 मार्च से बढ़ाकर हुई 15 अप्रैल 2021

ट्रैवेल सेफ्टी गाइड में एक ट्रैवेल सेफ्टी ऐप्लीकेशन भी है, जो अत्याधुनिक इंफोर्मेशन माइनिंग टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करती है। यह ऐप्लीकेशन बिजनेस के लिये यात्रा करने वाले के लोकेशन या नियोजित गंतव्य के आधार पर संभावित खतरों की तेजी से पहचान कर उन पर संवाद करती है। यह विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी को इकट्ठा और फिल्टर करती है और देश विशेष के लिये आसानी से मिलने वाली सूचना और यात्रा-पूर्व सलाह देती है।

इसके अलावा, इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने कई पर्यावरण-हितैषी और स्थायित्व की पहलों पर कार्यान्वयन कर अग्रणी भूमिका निभाई है, जैसे ‘ऑनलाइन एक्जिबिटर मैनुअल’ का इस्तेमाल, जिसने पेपर प्रिंटिंग को कम कर लगभग 300 पेड़ बचाए हैंय प्लास्टिक फोल्डर्स की जगह इको-फ्रैंडली किट्स और प्रतिवर्ष सीओटू का लगभग 3100 किलोग्राम उत्सर्जन कम करनाय प्रदर्शनियों में केवल एलईडीध्सीएफएल लाइट्स का इस्तेमाल और सीओटू का लगभग 1629 किलो उत्सर्जन कम करनाय वाटर बॉटल की जगह वाटर कियोस्क के इस्तेमाल को प्रोत्साहन, जिससे प्रतिवर्ष सीओटू का 9600 किलो उत्सर्जन कम हुआ।

ऑर्गेनाइजेशन द्वारा अपनाये गये सुरक्षा और स्थायित्व के व्यापक उपायों पर टिप्पणी करते हुए इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री योगेश मुद्रास ने कहा, ‘’हम इन्फॉर्मा के ऑलसिक्योर और ट्रैवेल सेफ्टी गाइड समेत यात्रा और सुरक्षा के प्रोटोकॉल्स के अनुपालन के साथ प्रदर्शनियों के फिजिकल फॉर्मेट की शुरूआत करते हुए खुश हैं। प्रदर्शनियां अर्थव्यवस्था के मुख्य गति देने वाले और सहायक होते हैं और हमारे समर्थन के चलते पिछले कुछ वर्षों में हमने इंडस्ट्री के लिये नीतिगत पहलों में बड़ा बदलाव देखा है। स्थिति की सक्रियता, अनलॉक के बीच की अंतरिम अवधि और फिजिकल एक्सपो में हमारे कदम रखने के कारण हमें इन उपायों के मूल्यांकन, सुदृढ़ता, परीक्षण और विस्तार का समय मिल सका। यह हमारे बहुप्रतीक्षित फिजिकल इवेंट्स में आने के लिये हमारे आंतरिक और बाहरी साझीदारों के बीच जरूरी भरोसा निर्मित करने में मदद करेंगे’’

यह भी पढ़ें -  कौशल विकास एवं महिला सशक्तीकरण विषय पर जागरूकता सेमिनार किया गया आयोजित

उन्होंने आगे कहा, ‘’आगे चलकर हम मिश्रित भागीदारी देने की इच्छा रखते हैं, जिसके लिये सर्वश्रेष्ठ फिजिकल और वर्चुअल प्लेटफॉर्म्स को मिलाया जाएगा। इस प्रकार हम अपने साझीदारों की बढ़ती जरूरतों के लिये क्षमतावान, प्रभावशाली और अत्याधुनिक समाधानों की पेशकश कर सकेंगे। अभी के लिये, हम एक सुरक्षित और स्थायी तरीके से अपनी फिजिकल ट्रेड प्रदर्शनियों में उनका स्वागत करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।‘’

इन्फॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया 24 से 26 मार्च को एसएटीटीई 2021 के साथ फिजिकल ट्रेड शोज की दोबारा शुरूआत करने के लिये तैयार है, जिसका आयोजन ग्रेटर नोएडा (यात्रा और आतिथ्य-सत्कार) में होगा। आने वाले महीनों में और भी इवेंट होंगे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page