मैक्स अस्पताल जन्मजात मूक बधिर बच्चों के लिए लॉन्च करेगा निशुल्क कॉकलियर (कर्णावत) प्रत्यारोपण कार्यक्रम

ख़बर शेयर करें

  • फ्री कॉकलियर इम्प्लांट ऐसे बच्चों के बेहतर जीवन के लिए आशा की किरण है जो सर्जरी करने में अक्षम है

देहरादून– मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, देहरादून को भारत सरकार द्वारा जन्मजात मूक बधिर बच्चों के लिए एक निशुल्क कोक्लेयर इम्प्लांट कार्यक्रम शुरू करने के लिए समानीकृत किया गया है। समझौता ज्ञापन के अनुसार अली यावर जंग नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पीच एंड हियरिंग डिसएबिलिटीज (दिव्यांगजन), मुंबई और मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, देहरादून सहायता / सहायता / उपकरण / उपकरणों की फिटिंग के लिए विकलांग व्यक्तियों को सहायता (एडीआपी योजना 2014) के तहत समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर हुआ है जिसके अनुरूप, संदर्भित अभ्यर्थियों के लिए कोक्लियर इम्प्लांट निरूशुल्क आयोजित किया जाएगा। एडीआपी योजना का हिस्सा बनने पर मैक्स अस्पताल, देहरादून के ईएनटी विशेषज्ञों की टीम डॉ (कर्नल) वी पी सिंह, एसोसिएट डायरेक्टर, ईएनटी, डॉ अनुपल डेका, कंसलटेंट- ईएनटी और डॉ ईराम खान, एसोसिएट कंसल्टेंट, ईएनटी बड़ा ही गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

कॉकलियर इम्प्लांट जो एक शल्य चिकित्सा द्वारा प्रत्यारोपित उपकरण है जिसे श्रवण या श्रवण तंत्रिका के सीधे संपर्क में इलेक्ट्रोड को कान में प्रत्यारोपित किया जाता है। यह मध्यम से गहन सुनवाई हानि को दूर करने में मदद करता है ताकि ऐसा बच्चा स्कूल जा सके और एक सामान्य जीवन जी सके।

मैक्स अस्पताल, देहरादून में कोक्लियर इम्प्लांट सर्जरी में विशेषज्ञता वाले ईएनटी विशेषज्ञों की एक टीम है, जिसमें डॉ (कर्नल) वी पी सिंह, एसोसिएट डायरेक्टर, ईएनटी शामिल हैं, जो कॉकलियर इम्प्लांट के क्षेत्र में अग्रणी रहे हैं, और डॉ ईराम खान, एसोसिएट कंसल्टेंट, ईएनटी हैं जिन्हे उत्तराखंड में दोनों कानों की एक मात्र ब्प् सर्जरी करने का गौरव हासिल है।

इस प्रमुख विकास के महत्व पर विस्तार से बताते हुए डॉ (कर्नल) वी पी सिंह, जिन्होंने इंसब्रुक ऑस्ट्रिया से अपनी ट्रेनिंग हासिल करी है बताया, “भारत में 1 लाख में 3 से 4 बच्चे जन्म से ही बहरे होते हैं। यह संख्या 5 वर्ष की आयु तक बढ़कर 5 से 6 हो जाती है। इसका मतलब है कि भारत में लगभग 30 मिलियन जन्मजात बहरे बच्चे हैं। यह योजना मूक-बधिर बच्चों वाले माता-पिता के लिए एक बड़ा अवसर है जो इस योजना का लाभ उठा सकते हैं और एक उज्जवल भविष्य के लिए बच्चे को समाज की मुख्य धारा में वापस ला सकते हैं। कॉकलियर इम्प्लांट एक महंगा प्रस्ताव है और अधिकांश लोगों द्वारा इसका खर्च वहन नहीं किया जा सकता। भारत सरकार ने समाधान के रूप में । एडीआपी योजना पेश की है जिसके तहत कुछ बच्चों को कोक्लियर इम्प्लांट डिवाइस निरू शुल्क प्रदान की जाती है, जिसमें सर्जिकल शुल्क की भी छूट दी जाती है जो बीपीएल परिवारों से जुड़े है या ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता 15,000 प्रति माह से कम कमाते हैं।”

यह भी पढ़ें -  सीएम श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर सुश्री सृष्टि गोस्वामी के उज्ज्वल भविष्य कामना की

एम.ओ.यू का एक हिस्सा होने पर अपनी खुशी व्यक्त करते हुए, डॉ इरम खान, जिन्होंने रॉयल विक्टोरियन आई एंड इयर हॉस्पिटल, मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया से क्लिनिकल फेलोशिप (कोक्लेयर इम्प्लांट) भी किया है, ने कहा, “यह हमारे लिए एक बहुत ही गर्व का क्षण है जिसमे हमें बहुत से ऐसे बच्चों की सहायता करने का अवसर मिला है जो अन्यथा, कभी भी एक बेहतर पूर्ण जीवन जीने में सक्षम नहीं होते हैं। एक बच्चा जो जन्मजात रूप से बहरा है उसे संचार में बड़ी समस्याएं हैं और इस तरह समाज में उसके एकीकरण में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। यह उनके सामाजिक जीवन और कौशल विकास को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। यहां तक कि कान की मशीन और सांकेतिक भाषा को सुनने से भी बहुत मदद नहीं मिलती क्योंकि समाज से बच्चे के एकीकरण का संबंध है। एकमात्र उपकरण जो बच्चे में लगभग सामान्य सुनवाई को बहाल करने में मदद कर सकता है वह कॉकलियर प्रत्यारोपण ही है।

यह भी पढ़ें -  खास खबर - गणतंत्र दिवस समोराह में इस वर्ष 17 राज्यों की झांकियों का होगा शानदार प्रदर्शन- जानने के लिए पूरी खबर पढ़ें

एम.ओ.यू के अनुसार, अली यावर जंग नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पीच एंड हियरिंग डिसएबिलिटीज (दिव्यांगजन), मुंबई ऑपरेटिंग सर्जन से मेडिकल और रेडियोलॉजिकल क्लीयरेंस के अधीन, कॉक्लियर इंप्लांट सर्जरी के लिए मैक्स हॉस्पिटल, देहरादून में उपयुक्त उम्मीदवारों को रेफर करेगा। वे अस्पताल में कोक्लियर इंप्लांट डिवाइस की आपूर्ति भी करेंगे और सर्जरी और पोस्ट ऑपरेटिव पुनर्वास बिलों का भुगतान करेंगे। अस्पताल में पोस्ट-ऑपरेटिव पुनर्वास में केस की आवश्यकता के आधार पर अच्छी तरह से प्रशिक्षित ऑडियोलॉजिस्ट / स्पीच लैंग्वेज पैथोलॉजिस्ट / विशेष शिक्षक (एच) / एवीटी चिकित्सक के साथ सत्र शामिल हैं। अस्पताल दो साल की अवधि के लिए बच्चों की आपरेशन के बाद प्रगति की निगरानी भी करेगा, जिसके आधार पर वे योजना के तहत किए गए सर्जरी और पुनर्वास के बाद की गतिविधियों पर रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page