मेडिका ने डे केयर में रोबोट से सफलतापूर्वक की हिस्टेरेक्‍टोमी, चौथी पीढ़ी के दा विंची सर्जिकल रोबोट से ऑपरेशन के बाद मरीज को उसी दिन घर लौटने की मिली अनुमति

ख़बर शेयर करें

देहरादून-20 फरवरी 2022: भारत की सबसे बड़ी निजी अस्पताल श्रृंखला, मेडिका सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल ने अपने नए स्थापित ऑन्कोलॉजी विभाग के माध्यम से कोलकाता में विश्व स्तरीय कैंसर उपचार प्रदान करते हुए एक यादगार उपलब्धि हासिल की है। पहली डे-केयर रोबोटिक हिस्टेरेक्‍टॉमी अस्‍पताल में उपलब्ध चौथी पीढ़ी के दा विंची सर्जिकल रोबोट द्वारा संभव हुई है। ऑन्को सर्वाइवर्स को सशक्‍त बनाते हुए विश्व कैंसर दिवस मनाने, आने वाली इकाई में वास्तविक जीवन में कैंसर से बचे लोगों को कार्यबल में शामिल करने के बाद, अब यह न्यूनतम आक्रामक तथा सफल डे-केयर ऑपरेशन डॉ. सौरव दत्ता, निदेशक, मेडिका कैंसर हॉस्पिटल के नेतृत्व में मेडिका ऑन्कोलॉजी टीम की एक और उपलब्धि है।

पश्चिम बंगाल के मिदनापुर की 50 वर्षीय श्रीमती सामंता का ऑपरेशन डॉ. अरुणव रॉय, सीनियर कंसल्‍टेंट गायनेकोलॉजिक ऑन्‍कोलॉजी एंड रोबोटिक सर्जरी ने किया था। आप मेडिका कैंसर इंस्टीट्यूट, मेडिका सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में गायनी ऑन्‍कोलॉजी और वीमेन कैंसर इनीशिएटिव के यूनिट हेड भी हैं।

मध्यवर्गीय गृहिणी, 50 वर्षीय श्रीमती सामंता पेरिमेनोपॉज़ल (रजोनिवृत्ति के आसपास) की स्थिति में थीं और लंबे समय से मासिक धर्म के भारी रक्तस्राव से पीड़ित थीं। अल्ट्रासाउंड से एंडोमेट्रियम (गर्भाशय की परत जहां से मासिक धर्म रक्तस्राव होता है) के मोटे होने का खुलासा हुआ। एंडोमेट्रियल बायोप्सी से एंडोमेट्रियल पॉलिप को आश्रय देने वाले एंडोमेट्रियल हाइपरप्लासिया का खुलासा हुआ। यह कैंसर से पहले की स्थिति थी जो अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर गर्भाशय के कैंसर का रूप ले सकती है। मरीज को हिस्टेरेक्‍टॉमी की सलाह दी गई। रोगी और उसके परिवार ने उपलब्ध कराई गई सर्जरी के लाभ को समझने के बाद कोलकाता के मेडिका सुपरस्पेशलिटी अस्पताल में उपलब्ध चौथी पीढ़ी के अपने किस्म के अनूठे दा विंची सर्जिकल रोबोट के माध्यम से रोबोटिक हिस्टेरेक्‍टॉमी करवाने का विकल्प चुना।

श्रीमती सामंता को सर्जरी के लिए सुबह 7 बजे भर्ती कराया गया था और उसी दिन शाम को लगभग 8 बजे छुट्टी दे दी गई थी। एक सप्ताह के भीतर, यह गृहिणी जो अपनी बूढ़ी सास की देखभाल करने वाली अकेली महिला है। वह पूरी तरह से फिट है और अपने सामान्य जीवन में लौट आई है। अपने घर के काम-काज कर रही हैं। रोबोटिक सर्जरी के लिए विशिष्ट उपभोग्य सामग्रियों के कारण होने वाली अतिरिक्त लागत को सर्जरी के बाद जीवन की सर्वोत्तम गुणवत्ता सुनिश्चित करते हुए अस्पताल में न्यूनतम समय रहने, दवाओं और ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरूरत नहीं पड़ने से संतुलित किया गया था।

यह भी पढ़ें -  कु.वि.वि. शिक्षक संघ (कूटा) ने डॉ गोकुल सत्याल भूगोल विभाग एमबीपीजी कॉलेज हल्द्वानी की पूज्यनीय माताजी के निधन पर किया दुख व्यक्त

पहले डे-केयर रोबोटिक हिस्टेरेक्‍टॉमी पर डॉ अरुणव रॉय ने कहा, “डब्ल्यूएचओ के आंकड़ों के मुताबिक, हर 6 में से 1 इंसान के जीवन में कैंसर होगा। 45-60 वर्ष के बीच की औसत महिलाएं सबसे कमजोर होती हैं लेकिन समय पर जांच, पता लगाना, उन्नत कैंसर देखभाल और आवश्यक उपचार उन्हें स्वस्थ जीवन जीने में मदद कर सकते हैं। इस डे-केयर हिस्टेरेक्‍टॉमी में रोगी को किसी भी ब्लड ट्रांसफ्यूजन, एंटीबायोटिक्स या प्रमुख दर्द निवारक की आवश्यकता नहीं होती है। उसे उसी दिन कम से कम दवाओं और लगभग बिना दर्द के छुट्टी दे दी गई। यह वास्तव में पूर्वी भारत में कैंसर देखभाल में एक महत्‍वपूर्ण उपलब्धि है और रोगियों को देरी न करने और सस्ती कीमत पर उपलब्ध सर्वोत्तम उपचार का लाभ उठाने के लिए प्रेरित करेगा।

भारत में:

· बीमारी से पीड़ित लोगों की अनुमानित संख्या: लगभग 22.5 लाख

· हर साल पंजीकृत होने वाले कैंसर के नये मरीजों की संख्या : 11,57,294 लाख से अधिक

· कैंसर से होने वाली मौतें: 7,84,821 लाख

· 75 साल की उम्र से पहले कैंसर होने का खतरा

· महिला: 9.42%

· पुरुष: 9.81%

सर्जिकल ऑन्कोलॉजी और रोबोटिक सर्जरी के प्रमुख डॉ. अभय कुमार ने कहा, “भारत में कैंसर का बोझ पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़ा है। वैश्विक स्तर पर, 2010-2019 से कैंसर के मामलों में 21% और मौतों में 26% की वृद्धि हुई। कोविड-19 ने स्क्रीनिंग अंतर को और बढ़ा दिया है। भारत में 2020 में लगभग 14 लाख लोगों को कैंसर था। शुरुआती पहचान और निदान ही मौतों को रोकने का एकमात्र तरीका है। मेडिका के पास कैंसर देखभाल में विश्व स्तरीय सुविधा है और चौथी पीढ़ी के दा विंची सर्जिकल रोबोट का समावेश मेडिका में कैंसर के इलाज के लिए एक वरदान होगा। यह डेकेयर उपचार मेडिका कैंसर संस्थान की ओर से सर्वश्रेष्ठ की ओर एक कदम है जो आने वाले दिनों में फलीभूत होगा।”

यह भी पढ़ें -  Covid -19 से सुरक्षा हेतु टीकाकरण है ब्रह्मास्त्र - प्रो० एन०के० जोशी

मेडिका हमेशा अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग हृदय-प्रौद्योगिकी के साथ करने में विश्वास करती है जो अस्पताल में रहने को कम करने के मामले में रोगियों के लिए फायदेमंद है और इस प्रकार लागत को कम करती है, बेहतर नैदानिक परिणाम और तेजी से वसूली करती है। इसी उद्देश्य के साथ मेडिका अब चौथी पीढ़ी को अपने साथ ले आई है दा विंची शी सिस्टम जो अब सर्जनों को मल्टी-क्वाड्रंट एक्सेस, बेहतर उपयोग में आसान, एक विस्तारित इंस्ट्रूमेंट पोर्टफोलियो और सर्जिकल प्रक्रियाओं की चौड़ाई के लिए न्यूनतम चीर-फाड़ विकल्प को सक्षम करने के लिए एक एकीकृत तालिका प्रदान करने में सक्षम होगा। महामारी के दौरान, चिकित्सा क्षेत्रों में रोबोट-असिस्टेड सर्जरी (आरएएस) जैसी न्यूनतम चीर-फाड़ सर्जरी की संख्या में वृद्धि हुई थी – विशेष रूप से कैंसर देखभाल में। यह एक संकेत है कि रोगियों और सर्जनों के कुछ वर्ग अब इस प्रक्रिया को इस कारण से चुन रहे हैं – यह न्यूनतम पोस्ट-ऑपरेटिव देखभाल के साथ रोगी और सर्जन के लिए अधिक सटीक और सुरक्षित है।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page