महाशिवरात्रि शाही स्नान के दृष्टिगत को ध्यान में रखते हुए संबंधित अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा-निर्देश-मेलाधिकारी दीपक रावत

ख़बर शेयर करें

हरिद्वार- रविवार को शिविर कार्यालय में आयोजित बैठक में मेलाधिकारी दीपक रावत ने महाशिवरात्रि शाही स्नान के दृष्टिगत और सम्पूर्ण कुम्भ मेले के दौरान शौचालयों और यूरिनल के समुचित प्रबन्ध और साफ-सफाई रखने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को स्नान के दिनों में कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए।
श्री रावत ने कहा कि 11 मार्च को महाशिवरात्रि का महत्वपूर्ण स्नान है। इसको देखते हुये सभी सेक्टरों में शौचालय और यूरिनल के प्रबन्ध तत्काल पूरे कर लिये जाये।
मेलाधिकारी ने सेक्टरवार शौचालयों और यूरिनल की जानकारी प्राप्त की। सेक्टर मजिस्ट्रेट अब्ज प्रसाद वाजपेयी ने बताया कि पंतद्वीप में यूरिनल प्रयोग के लिए बहुत उपयुक्त नहीं है। इस पर मेलाधिकारी ने सभी को ठीक कराने के निर्देश दिए। उनके मैनपावर की जानकारी मांगने पर बताया गया कि दस शौचालय पर एक मैनपावर रखा गया है। मेलाधिकारी ने पर्याप्त मैनपावर रखने, सभी जगहों के फोटो खींचकर रखने, शौचालयों व यूरिनलों की समुचित सफाई रखने के निर्देश दिए, साथ ही अधिकारियों से कहा कि निरीक्षण के दौरान किसी भी सेक्टर में कोई कमी नहीं मिलनी चाहिए। इसलिए सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट अपने सेक्टरों में सारी व्यवस्था दुरूस्त करा लें।
बैठक में अपर मेलाधिकारी डाॅ0 ललित नारायण मिश्र, हरबीर सिंह, नगर आयुक्त जयभारत सिंह, उप मेलाधिकारी अंशुल सिंह, किशन सिंह नेगी, सेक्टर मजिस्ट्रेट योगेश सिंह, गौरव पांडेय, अनिल शुक्ला, मायादत्त जोशी, पेयजल निगम के अधिशासी अभियंता मोहम्मद मीसम, तकनीकी प्रकोष्ठ के सहायक अभियंता अनंत सिंह सैनी, ओएसडी महेश चंद शर्मा आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें -  लेक रिजोर्ट नौकुचियाताल में उ. प्र. के अपर मुख्य सचिव के पुत्र विवाह समारोह में सीएम ने किया प्रतिभाग
निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशनन्द गिरी की कोविड को लेकर अपील… कुम्भ पर्व पर मास्क जरूर पहनें…
किन्नर अखाड़े की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page