73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर खुशनुमा परवीन ने स्वरचित कविता के माध्यम से दिया संदेश

Ad
ख़बर शेयर करें

गणतंत्र दिवस २६ जनवरी फिर है आई, अपने साथ खुब सारी योजनाएं लाई,२६ जनवरी गणतंत्र हुआ भारत अपना, जिसका देखा था बरसों से सब ने सपना, बहुत संघर्षों के बाद गणतंत्र हुआ भारत अपना, गणतंत्र भारत में है, सबका नया सपना, अत्याचार को हमने मिटाना है, अब मतदान को हमने आगे बढ़ाना है, संविधान का पालन हमें करना है, संविधान के नियमों में हमें हमेशा चलते रहना है,२६ जनवरी गणतंत्र हुआ भारत अपना, जिसका देखा था बरसों से सब ने सपना, झूठ फरेब के दलाल को हमे हमेशा के लिए खत्म करना है, गणतंत्र भारत का एक अच्छा नागरिक बनना है, संविधान का सम्मान हमें हमेशा करते रहना है, संविधान के नियमों से हमें सबको जागरूक करना है, आओ आज यह संकल्प लें, हम भारतीय नागरिक संविधान के नियमों का हमेशा पालन करते जाएंगे, और गणतंत्र भारत में अपना संपूर्ण योगदान करते जाएंगे।

Ad
Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page