दीक्षारम्भ कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन ,CCF कुमाऊ डॉ तेजस्विनी पाटिल, SSP प्रीति प्रियदर्शनी व रजिस्ट्रार दिनेश चंद्र ने संयुक्त रूप से दीपप्रज्वलित कर किया

ख़बर शेयर करें

सर्वप्रथम प्रोफ़ेसर ललित तिवारी एवं डॉक्टर गीता तिवारी द्वारा मंच संचालन किया गया ।
कार्यक्रम का प्रारंभ प्रोफ़ेसर डी एस बिष्ट द्वारा किया गया। उनके द्वारा कुमाऊं विश्वविद्यालय में DSW बोर्ड की व्यवस्था एवं सुविधाओं के विषय में अवगत कराया गया । इस कार्यक्रम में नोडल ऑफिसर प्रोफ़ेसर इंदू पाठक एवं कुलानुशासक प्रोफ़ेसर नीता बोरा सम्मिलित थे। कार्यक्रम का प्रारंभ राष्ट्रगान एवं कुलगीत द्वारा किया गया।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में सयुक्त मजिस्ट्रेट श्री प्रतीक जैन , CCF कुमाऊ डॉ तेजस्विनी पाटिल, SSP श्रीमती प्रीति प्रियदर्शनी, रजिस्ट्रार श्री दिनेश चंद्र
DSW प्रोफ़ेसर डी एस बिस्ट द्वारा दीपप्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया । डॉ इंदु पाठक द्वारा सभी मुख्य अतिथियों का पुष्पगुच्छ एवं शाल प्रदान कर स्वागत किया गया । इस कार्यक्रम की समूह प्रमुख डॉक्टर गीता तिवारी द्वारा छात्रों को इस कार्यक्रम के विषय में अवगत कराया गया । उन्होंने बताया कि दीक्षारंभ कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य नए छात्र छात्राओं को नए परिवेश से परिचित कराना है जिससे छात्र छात्राओं को यह जानकारी मिलेगी कि किस प्रकार राष्ट्र की ,राज्य की और मानवता की सेवा कर सकते हैं।दीक्षारंभ कार्यक्रम की प्रथम वक्ता डॉक्टर तेजस्वी पाटिल ने छात्रों को अवगत कराया की स्वयं पर अनुशासन करना कितना महत्वपूर्ण है। तदोपरांत जिले की कप्तान SSP प्रीति प्रियदर्शनी ने छात्रों को बताया कि सही दिशा एवं कुशल मार्गदर्शन कितना आवश्यक है। तदोपरांत संयुक्त मजिस्ट्रेट IAS श्री प्रति जैन ने छात्रों को प्रेरणा देते हुए बताया कि सकारात्मक सोच द्वारा जीवन को कैसे कुशल एवं समृद्ध बनाया जा सकता है । तत्पश्चात कुमाऊ विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉक्टर दिनेश चंद्र ने बताया कि कुमाऊं विश्वविद्यालय संयुक्त राष्ट्र में 27 वा स्थान प्राप्त करके उन्नति की ओर किस प्रकार अग्रसर हो रहा है।तदोपरांत डॉक्टर डी एस बिष्ट एवं प्रोफेसर इंदु पाठक द्वारा मुख्य अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन किया गया । मध्यान्ह के बाद प्रोफेसर एच सी एस बिष्ट द्वारा छात्र-छात्राओं को एन सी सी एवं एनएसएस के विषय में अवगत कराया गया । तदनंतर रसायन विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर ए बी मेलकानी द्वारा अपने छात्र काल का अनुभव एवं परिसर एवं महाविद्यालय के बीच का अंतर छात्रों के मध्य उपस्थित किया ।डॉक्टर दीपिका गोस्वामी के द्वारा बताया गया कि विश्वविद्यालय के माध्यम से छात्र अपने विभिन्न कौशलों का विकास किस माध्यम से कर सकते हैं। डॉ अशोक कुमार द्वारा बताया गया कि पर्यटन के क्षेत्र में छात्र अपनी आजीविका एवं मनोरंजन को किस प्रकार से परिभाषित कर सकते हैं।डॉक्टर पेनी जोशी द्वारा विज्ञान संकाय के विषय में,डॉक्टर अनिल कुमार बिष्ट द्वारा जीव विज्ञान संकाय के विषय में एवं डॉक्टर लज्जा भट्ट द्वारा कला संकाय के विषय में संपूर्ण जानकारी दी गई। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष अभिषेक मेहरा द्वारा छात्रों को विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाली समस्याओं के निराकरण हेतु जानकारी प्रदान की गई।
इस कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ गीता तिवारी ,डॉ अनिल बिष्ट, डॉ अशोक कुमार ,डॉ लज्जा भट्ट, डॉ संतोष उपाध्याय ,डॉ पैनी जोशी, डॉक्टर दीपाक्षी जोशी ,डॉक्टर निधि वर्मा ,डॉ ऋचा गिनवाल एवं श्री अभिषेक द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों को अंतिम रूप दिया गया। शोध छात्र भावना ,कृष्णा, आभा, भास्कर, निर्मला, शीतल ,गरिमा, दीपा, वसुंधरा के द्वारा कार्यक्रम में पूर्ण सहयोग दिया गया।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page