Covid -19 से सुरक्षा हेतु टीकाकरण है ब्रह्मास्त्र – प्रो० एन०के० जोशी

ख़बर शेयर करें

नैनीताल- 5 जून को मा० कुलपति कुमाऊँ विश्वविद्यालय प्रो० एन०के० जोशी द्वारा वीडियो सन्देश के माध्यम से कोरोना महामारी के संक्रमण से सुरक्षा हेतु वैक्सीनेशन/टीकाकरण हेतु जागरूक किया गया। विश्वविद्यालय के शोशल मीडिया एकाउंट में प्रसारित अपने वीडियो सन्देश में उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संक्रमण से निपटने के लिये सभी की भागीदारी अत्यन्त आवश्यक है। इस महामारी से बचने के लिये प्रदेश एवं देश के सभी नागरिकों को एकजुट होकर अपने कर्तव्यों को निभाना है तभी हम इस महामारी पर विजय प्राप्त कर सकते हैं। मेरा मानना है कि कोविड से भयभीत न हों मुकाबला करें एवं संयम रखें। सभी ईश्वर पर भरोसा रखते हुए सकारात्मक भाव रखें, अपने परिवार, पड़ोसियों, मित्रों के लिये, प्रदेश एवं देश के लिये अच्छा सोचें।

यह भी पढ़ें -  कुमाऊं विश्वविद्यालय द्वारा 6 अगस्त 2021 से आरम्भ की जा रही है सम-सेमेस्टर में प्रवेश की प्रक्रिया

मा० कुलपति प्रो० जोशी ने अपने सम्बोधन में कहा कि यह अच्छी बात यह है कि संक्रमण से बचने के लिये देश में टीकाकरण प्रारंभ हो चुका है। टीकाकरण ब्रम्हास्त्र है इसके लिये सभी को जागरूक करने की आवश्यकता है। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु देश में लगाई जा रही सभी.वैक्सीन सुरक्षित है। मैं बताना चाहता हूँ कि वैक्सीन हमारे शरीर को किसी बीमारी, वायरस या संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार करती है। ये शरीर के इम्युन सिस्टम को वायरस की पहचान करने के लिए प्रेरित करती है और उनके खिलाफ एंटीबॉडी बनाती है, जो बाहरी हमले से लड़ने में हमारे शरीर की मदद करते है। वैक्सीनेशन न सिर्फ कोविड-19 से आपको सुरक्षा देगा अपितु दूसरों को भी सुरक्षित करेगा। यह टीकाकरण इस कोरोना महामारी से बाहर निकलने का सबसे महत्वपूर्ण माध्यम है।

यह भी पढ़ें -  जनप्रतिनिधि व ग्रामीणों को कोतवाली में संतोषजनक जवाब नहीं मिलने से भड़के कांग्रेसी

उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि ‘‘दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी” का पालन करते हुए वैक्सीनेसन जरूर करवाएं एवं अपने देश को इस महामारी से बाहर निकालने में एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में अपनी भूमिका का निर्वाह करें।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page