विधवा पेंशन योजना- महिलाओं के लिए आशा की लहर-वीपीएचईपी टीएचडीसीआईएल की पहल

ख़बर शेयर करें

ऋषिकेश– टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड विशेष रूप से कमजोर-ग्रामीण महिलाओं और परियोजना प्रभावित क्षेत्रों में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए हमेशा प्रतिबद्ध और सक्रिय रहा है।

इसी संबंध में टीएचडीसीआईएल-विष्णुगाड-पीपलकोटी जल विद्युत परियोजना द्वारा चमोली जिले के पीपलकोटी में विधवा महिलाओं के लिए विधवा सहायता पेंशन योजना चलाई जा रही है। विधवा सहायता पेंशन योजना का मुख्य उद्देश्य विधवा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाना है जिससे कि उन्हें बुढ़ापे में किसी पर निर्भर न रहना पड़े और वे सामाजिक प्रतिष्ठा में भी वृद्धि कर सकें|

विधवा सहायता पेंशन योजना की पीपलकोटी निवासी लाभार्थी श्रीमती शिवा देवी ने कहा कि इस बुढ़ापे में कम से कम बाहर जाकर काम नहीं करना पड़ रहा जब से टीएचडीसी कम्पनी हमें पेंशन दे रही है |” जबकि योजना की एक अन्य लाभार्थीचमोली जिले के ग्राम दसवाना निवासी श्रीमती सावित्री देवी ने कहा कि विधवा पेंशन के रूप में यह आर्थिक सहायता हमारे बुरे वक्त में काम आ रही है गौरतलब है कि श्रीमती सावित्री देवी गांव के पंचायत भवन में अपने बेटों द्वारा घर से अलग कर दिए जाने के कारण अकेली रहती हैं |

यह भी पढ़ें -  राजकीय पॉलिटैक्निक गैरसैंण में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन इम्पलाइमेंट का उद्घाटन उच्च शिक्षा डॉ.धन सिंह रावत ने किया

इस योजना के तहत लगभग 24 विधवा महिलाएं लाभान्वित हो रही हैं और उन्हें वीपीएचईपी-टीएचडीसीआईएल से वित्तीय सहायता के रूप में प्रति माह 1500 रुपये मिल रहे हैंजबकि 9 लाभार्थियों की पेंशन प्रक्रिया में है। यह स्पष्ट है कि जब से विधवा पेंशन योजना का लाभ महिलाओं को मिल रहा हैतब से उन्हें बाहर जाकर काम करने की जरूरत नहीं है और  साथ ही वे आर्थिक रूप से स्वतंत्र भी हुई हैं।

टीएचडीसीआईएल मानता है कि “स्वस्थशिक्षित और सशक्त महिलाएं बदलाव लाने में मुख्य भूमिका निभाती हैं”। जब महिलाओं का समर्थन किया जाता हैउन्हें सशक्त बनाया जाता हैतो उन्हें आत्मविश्वास मिलता है और उन्हें अपने अधिकारों के लिए बोलने और आर्थिक रूप से स्वतंत्र होने का भी अवसर मिलता है। इसलिए टीएचडीसीआईएल की यह वित्तीय सहायता विधवा महिलाओं के लिए वरदान साबित हो रही है।

यह भी पढ़ें -  ब्लू डार्ट ने क्यू4 और वर्षांत के सकारात्मक नतीजे दिखाकर किया रिकॉर्ड प्रदर्शन

टीएचडीसीआईएल भारत की अग्रणी विद्युत उत्पादन कंपनियों में से एक है । टिहरी बांध एवं एचपीपी (1000 मेगावाट) कोटेश्वर एचईपी(400 मेगावाट)गुजरात के पाटन में 50 मेगावाट एवं द्वारका में 63 मेगावाट की पवन विद्युत परियोजनाओंउत्तर प्रदेश केझांसीमें 24 मेगावाट की ढुकवां लघु जल विद्युत परियोजना एवं कासरगॉड केरल में 50 मेगावाट की सौर परियोजना के साथ टीएचडीसीआईएल की कुल संस्थापित क्षमता 1587 मेगावाट हो गई है ।

डा. . एन, त्रिपाठी, अपर महाप्रबन्‍धक (कॉरपोरेट संचार) द्वारा जारी

E-mail: [email protected]  ; [email protected]

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 7017197436 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page