आकाश +बायजू के 440 छात्रों ने एनटीएसई(चरण -2)में उत्तीर्ण होने का रिकॉर्ड बनाया,एनटीएसई 2021 छात्रवृत्ति के लिए प्राप्त की योग्यता

ख़बर शेयर करें

आकाश +बायजू के 440 छात्रों ने एनटीएसई (चरण -2) में उत्तीर्ण होने का रिकॉर्ड बनाया; एनटीएसई 2021 छात्रवृत्ति के लिए योग्यता प्राप्त की

साल-दर-साल आकाश+ बायजू के में चयनित होने वाले छात्रों की संख्या में बढ़ोतरी का ट्रेंड बरकरार है

एनटीएसई राष्ट्रीय स्तर का एक छात्रवृत्ति कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य विज्ञान एवं सामाजिक विज्ञान के पाठ्यक्रमों के साथ-साथ मेडिकल तथा इंजीनियरिंग जैसे व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की पढ़ाई के लिए होनहार छात्रों की पहचान करना और शैक्षणिक रूप से उनका विकास करना है

देहरादून – देश में परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले अग्रणी संस्थान, आकाश+ बायजू के 440 छात्रों ने शानदार परिणाम का रिकॉर्ड बनाते हुए भारत में सबसे सम्मानित छात्रवृत्ति परीक्षाओं में से एक, एनटीएसई 2021 छात्रवृत्ति के लिए अर्हता प्राप्त की है।

परीक्षा में छात्रों की जबरदस्त कामयाबी पर अपने विचार व्यक्त करते हुए, श्री आकाश चौधरी, प्रबंध निदेशक, आकाश$बायजू ने कहाः “इस साल के नतीजे वाकई असाधारण रहे हैं। इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए हमारे छात्रों और शिक्षकों ने कड़ी मेहनत की है। एनटीएसई चरण-2 में हमारे संस्थान से अब तक के सर्वाधिक छात्रों, यानी 440 छात्रों का चयन हुआ है। एनटीएसई (चरण-2) 2021 में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले हमारे सभी छात्रों को मैं बधाई देता हूँ। यह छात्रों द्वारा की गई कड़ी मेहनत, उनके माता-पिता के सहयोग तथा आकाश$बायजू में परीक्षा के लिए अव्वल दर्जे की तैयारी का परिणाम है। मैं उन सभी छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ।“

यह भी पढ़ें -  यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड (एनएसआईसी) के साथ समझौते पर किये हस्ताक्षर

मौजूदा योजना के तहत, विज्ञान एवं सामाजिक विज्ञान में डॉक्टरेट स्तर तक की पढ़ाई करने वाले तथा मेडिकल एवं इंजीनियरिंग जैसे व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में द्वितीय-डिग्री स्तर तक की पढ़ाई करने वाले उम्मीदवारों को एनटीएसई छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। आज की तारीख में, देश में हर साल लगभग 2,000 छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाती है, जिसमें अनुसूचित जाति के लिए 15 प्रतिशत, अनुसूचित जनजाति के लिए 7.5 प्रतिशत और अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 27 प्रतिशत तथा न्यूनतम मानदंडों के तहत दिव्यांग छात्रों के समूह के लिए 4 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखण्ड में रोपवे और केबिल कार के लिए केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय से मिलेगी धनराशि

प्रतिभाशाली छात्रों की पहचान में दो चरणों वाली चयन प्रक्रिया शामिल है। प्रत्येक राज्य / केंद्रशासित प्रदेश पहले चरण का आयोजन करता है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर एनसीईआरटी द्वारा दूसरे चरण का आयोजन किया जाता है।

आकाश+बायजू का उद्देश्य अकादमिक जगत में सफलता हासिल करने की इच्छा रखने वाले छात्रों की मदद करना है। यहां पाठ्यक्रम एवं अध्ययन सामग्रियों के विकास के साथ-साथ अध्यापकों के प्रशिक्षण एवं निगरानी के लिए घरेलू स्तर पर एक केंद्रीकृत प्रक्रिया मौजूद है, जिसका नेतृत्व राष्ट्रीय शैक्षणिक टीम द्वारा किया जाता है। पिछले कुछ वर्षों में, आकाश+बायजू के छात्रों ने विभिन्न मेडिकल एवं इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं, तथा एनटीएसई, केवीपीवाई और ओलंपियाड जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में शानदार सफलता के रिकॉर्ड को बरकरार रखा है।

www.aakash.ac.in

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करे- विकास कुमार-8057409636

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 7017197436 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page