महाकुंभ मेले में पेशवाईयां आकर्षण का केन्द्र होती है- मेला अधिकारी दीपक रावत

ख़बर शेयर करें

हरिद्वार महाकुंभ मेले में विभिन्न अखाड़ों द्वारा आयोजित पेशवाईयां आकर्षण का केन्द्र होती है। भव्य पेशवाईयों में साधु.संतों एवं धर्म गुरूओं के दर्शन मात्र से ही लोग अभिभूत हो उठते हैं तथा लोगों को परम.आलौकिक आनंद की अनुभूति होती है। यह बात मेलाधिकारी दीपक रावत ने कही है। उन्होंने कहा कि धीरे.धीरे महाकुम्भ मेला परवान चढ़ता जा रहा है। निर्धारित स्नान की तिथियों में लोगों की आस्था का सैलाब धर्मनगरी में देखने को मिल रहा है।
उन्होंने कहा कि विभिन्न अखाड़ों के प्रस्तावित शाही प्रवेश तथा अखाड़ों के निकलने वाले पेशवाई.जुलूसों के मार्गों की अच्छी हालत होना अनिवार्य है। ताकि पेशवाई.जुलूसों के आयोजन में कोई गतिरोध उत्पन्न न हो। उन्होंने मेला व्यवस्था में लगे अधिकारियों से कहा कि 3 मार्च से शुरू हो रहे पेशवाई.जुलूसों के मार्गों की सभी व्यवस्थाएं समय रहते दुरूस्त कर ली जाए। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी सुनिश्चित करें कि जहां से अखाड़ों के पेशवाई.जुलूस निकलेंगे उन मार्गों की हालत अच्छी हो। मार्गों में किसी प्रकार के गडढे कीचड़ खुले हुए मेनहाॅल तथा किसी अन्य प्रकार की गंदगीए कूड़ा.कचरा नहीं होना चाहिए। पेशवाई जुलूस मार्गों की सफाई व्यवस्था की ओर विशेष ध्यान दिया जाए। कहीं पर भी किसी प्रकार की गंदगी नहीं होनी चाहिए। विद्युतए टेलीफोन व केबिल आदि के तार इतने नीचे नहीं होने चाहिए जो पेशनवाईयों के रथों एवं ध्वजों को छूएं।
श्री रावत ने मेलाधिकारी स्वास्थ्यए नगर आयुक्त नगर निगम मुख्य अभियंता विद्युतए अधीक्षण अभियंता लोनिविए जल संस्थानए अधिशासी अभियंता पेयजल निगमए अधिशासी अभियंता भूमिगत विद्युत केबिल परियोजना तथा अधिशासी अभियंता अनुरक्षण शाखा ;गंगाद्धजल संस्थान को निर्देशित किया है कि वह आपसी समन्वय करते हुए दो दिन के भीतर पेशवाईयों के मार्गों से सभी बाधाएं दूर करते हुए व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सभी अपर मेलाधिकारीए महाकुम्भ हरबीर सिंह से समन्वय स्थापित करते हुए प्रत्येक स्थल एवं प्रत्येक मार्ग का निरीक्षण कर लें तथा इन मार्गों पर होने वाले सभी कार्य समय से पूर्ण कर लें। उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि किसी विभाग के कारण अखाड़ों की पेशवाई.जुलूस को किसी प्रकार की असुविधा होती है तो उसके लिए सम्बंधित विभाग उत्तरदायी होगा। कुम्भ से सम्बंधित सभी प्रकार के कार्य अधिकारियों की प्राथमिकता में शामिल होने चाहिए। ताकि साधु.संत समाज तथा श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की कोई असुविधा न हो।

यह भी पढ़ें -  टीएचडीसीआईएल ने सादगी से मनाया 72वां गणतंत्र दिवस



लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page