ग्रीनप्लाइ ने लॉन्च किया नया टीवीसी कैंपेन ‘खुद बने हो तो, बनता है ग्रीनप्लाइ

ख़बर शेयर करें

यह कैम्पेन हर सेल्फ-मेड व्यक्ति के जीवन पर प्रकाश डालता है, साधारण शुरूआतों और सिखाने वाली विफलताओं से लेकर महानता के रास्ते पर आने तक

देहरादून- भारत की सबसे बड़ी इंटीरियर इको-फ्रैंडली इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ग्रीनप्लाइ इंडस्ट्रीज लिमिटेड को प्लाइवुड, सजावटी परत (वनीर), फ्लश डोर्स और अन्य संबद्ध उत्पादों की एक व्यापक श्रृंखला के उत्पादन में 30 साल से ज्यादा का अनुभव है। कंपनी ने अब टीवीसी कैम्पेन का नया सेट ‘खुद बने हो तो, ग्रीनप्लाइ बनता है’ आरम्भ किया है। यह टीवीसी मानवीय भावना की तन्यकता का जश्न मनाता है और हर सेल्फ-मेड आदमी के जीवन की विनम्र शुरूआतों और सिखाने वाली विफलताओं से लेकर महानता के रास्ते पर आने तक की यात्रा पर प्रकाश डालता है। इन टीवीसी को ऑगिल्वी इंडिया ने बनाया और सुजीत सरकार ने निर्देशित किया है।

प्रचार वाक्य “खुद बने हो तो, ग्रीनप्लाइ बनता है”, इस कैम्पेन का अन्तर्निहित विचार है, जिसमें दो टीवीसी की एक सीरीज है, जो हर सेल्फ-मेड आदमी की सफलता के रास्ते पर प्रकाश डालती है। यादों के सदाबहार पन्नों पर दर्ज हर उपलब्धि के लिये निराशा, कठिनाई और हार की कहानियां होती हैं, जो स्मृति में नहीं रहती हैं। पहला टीवीसी एक लेखक की यात्रा दिखाता है, विनम्र शुरूआतों और विफलताओं से लेकर सफलता के मार्ग पर आने तक। दूसरे टीवीसी की परिकल्पना रुस्टॉप सेईंग वीमेन कैननॉट कैम्पेन की निरंतरता के तौर पर की गई है, जिसमें एक महिला कारपेंटर के महान बनने की यात्रा है, हर न को हाँ और हर असंभव को संभव बनाने वाली। दूसरा टीवीसी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नारीत्व के उत्साह का जश्न मनाने के लिये लॉन्च किया गया है।

यह भी पढ़ें -  चमोली तपोवन आपदा हेतु उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी हर सभंव मदद करने को तैयार- संजय कुण्डलिया

सेल्फदृमेड आदमी आग से खेलते हैं। उनकी उपलब्धियाँ कुंठित करने वाली कठिनाइयों पर दृढ़ता का प्रमाण होती हैं। वे प्रेरक और तारीफ के काबिल होते हैं। यह कहानियाँ सभी विषमताओं और ना कहने वालों के विरूद्ध उम्मीद का एक मजबूत वृत्तांत हैं। इन टीवीसी के जरिये ग्रीनप्लाई हर सेल्फ-मेड व्यक्ति द्वारा सफलता के लिये की गई अथक मेहनत का उत्सव मनाता है।

इस कैम्पेन के बारे में ग्रीनप्लाइ इंडस्ट्रीज लिमिटेड के जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर श्री सानिध्य मित्तल ने कहा, “ग्रीनप्लाइ की टीम अपने दम पर कुछ करने का मतलब समझती है। हमारे ब्राण्ड के सिद्धांत के तौर पर हम हमेशा उस हद की प्रशंसा करते हैं, जहाँ तक लोग अपने सपनों को पूरा करने के लिये जाते हैं। यह कैम्पेन ऐसे ही सेल्फ-मेड लोगों और उनके अदम्य उत्साह को सलाम करता है।”

ग्रीनप्लाइ इंडस्ट्रीज लिमिटेड के सेल्स और मार्केटिंग के कंट्री हेड, श्री सुबिर पालित ने कहा कि, “खुद बने हो तो, ग्रीनप्लाई बनता है” हर किसी को अपनी अभिव्यक्ति और अपने सपने का पीछा करते रहने के लिये प्रोत्साहित करता है। इस कैम्पेन का वर्णन एक ब्राण्ड के तौर पर ग्रीनप्लाई के सिद्धांतों को मूर्त रूप देता है। यह महानता अर्जित करने से पहले नहीं रुकने वाले हर सेल्फ-मेड व्यक्ति के जोश का उत्सव मनाता है। इस कैम्पेन के माध्यम से हम अपने दर्शकों के साथ ज्यादा गहरा लगाव निर्मित करना चाहते हैं।”

यह भी पढ़ें -  पेटीएम ने नागरिकों की सहायता के लिये कोविड-19 वैक्सीन फाइंडर किया लॉन्च

ऑगिल्वी इंडिया के एक्जीक्यूटिव क्रियेटिव डायरेक्टर सुजॉय रॉय ने कहा कि, “यह कैम्पेन मानवता के अजेय तन्यकता को श्रद्धांजलि है। इसके किरदार ऐसे लोग हैं, जिनके साथ हम आसानी से जुड़ सकते हैं। हम उनकी कुंठा का अनुभव कर सकते हैं, क्योंकि हम सभी ऐसे दौर से गुजरे हैं। इसलिये उनकी आशा हमारी आशा है। कैम्पेन का मूड अंत में आने वाले और टैगोर के प्रसिद्ध गीत में सारगर्भित होता है। संदेश स्पष्ट है रू अगर कोई आपके साथ चलने को तैयार नहीं हो, तो भी अकेले चलते रहो।”

चूँकि ग्रीनप्लाइ मानवीय प्रयासों का आईना है, यह कैम्पेन इस ब्राण्ड की मानवीयता और पलटाव के उत्साह को प्रतिबिम्बित करता है, जो उसकी पहचान है। इसमें ऐसे किरदारों की आवाजों में एकालापों की एक श्रृंखला है, जो उन लोगों की प्रस्तुति करते हैं, जिनके करीयर संघर्ष और दुविधा के कारण तबाह हो गए। एकालापों के साथ उनके संघर्षों का एक मोंताज भी है, जो जीत में परिणत होता है। यह वे लोग हैं, जो अपने अतीत की कठिनाइयों को याद कर रहे हैं। संदेश सरल है – कभी हार मत मानो। संकोच के बिना आगे बढ़ो।

The Writer Film – https://youtu.be/3deVZXOH0EE

Women Carpenter Film – https://youtu.be/FM3BU_AcFfY

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page