मेला अधिकारी दीपक रावत ने मोबाइल ए0टी0एम0 वैन का रिबन काटकर किया शुभारंभ

ख़बर शेयर करें

हरिद्वार: मेला अधिकारी श्री दीपक रावत ने आज मेला नियंत्रण भवन(सी0सी0आर0) परिसर में मोबाइल ए0टी0एम0 वैन का रिबन काटकर शुभारंभ किया।
मेलाधिकारी ने मोबाइल ए0टी0एम0 वैन के सम्बन्ध में कहा कि कुम्भ मेले में लाखों श्रद्धालुओं का आगमन होगा। अगर श्रद्धालुओं को नकदी की आवश्यकता होती है, तो वे मोबाइल ए0टी0एम0 वैन से नकदी की निकासी आसानी से ऐसे जगहों से भी कर सकते हैं, जहां बैंक या ए0टी0एम0 स्थापित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हम मेला क्षेत्र में इन्हें अच्छी लोकेशन में रखेंगे तथा रात्रि में भी सुरक्षा की व्यवस्था करेंगे। उन्होंने कहा कि हम पूरे हरिद्वार शहर-रेलवे स्टेशन, बस अड्डा आदि के लिये योजना बना रहे हैं।


इस अवसर पर स्टेट बैंक के अधिकारियों ने मेलाधिकारी को यूनो एप की प्रक्रिया के सम्बन्ध में बताया कि यह एप काफी सुरक्षित है, आपको रूपये आहरण करने के लिये ए0टी0एम0 कार्ड की आवश्यकता नहीं होती है, केवल आपके पास मोबाइल फोन होना चाहिये। उन्होंने कहा कि किसी भी शहर के सौन्दर्यीकरण में कलर लाइटिंग तथा प्लांटिंग का विशेष महत्व है। ये सभी कार्य संयुक्त प्रयास से चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि चित्रकला के माध्यम से शहर के प्रमुख भवनों, घाटों, पुलों, दीवारों आदि को धार्मिक मान्यताओं के पौराणिक चित्रों, उत्तराखण्ड के आइकाॅन, संस्कृति के रंग बिखेरते चित्रों आदि से सजाया जा रहा है। हमारा प्रयास होगा कि बहुत ही खूबसूरत हरिद्वार देखने को मिलेगा।
इससे पूर्व मेलाधिकारी का एस0बी0आई0 के अधिकारियों ने पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया।
इस अवसर पर अपर मेला अधिकारी डाॅ0 ललित नारायण मिश्र, स्टेट बैंक आॅफ इण्डिया के ए0जी0एम0, श्री एन0के0 शर्मा, श्रीमती रूबि मिश्रा, मुख्य प्रबन्धक श्री प्रदीप सिंह, प्रबन्धक, श्री राहुल कुमार, श्री संजय हाण्डा आदि उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें -  कितनी महत्वपूर्ण है गीता जयंती? जाने पूजा विधि शुभ मुहूर्त एवं कथा

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page