सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. धन सिंह रावत ने डेरी निदेशालय में दुग्ध विभाग की ली समीक्षा बैठक

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी – दुग्ध विकास, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. धन सिंह रावत ने डेरी निदेशालय में दुग्ध विभाग की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने प्रदेश में दुग्ध उपार्जन-विपणन स्थिति के साथ ही भौतिक व वित्तीय व्यय की अद्यतन जनकारियां अधिकारियों से ली। उन्होने कहा कि विभिन्न योजनाओं में प्राप्त धनराशि का ससमय सदुप्रयोग करें। उन्होने प्रदेश के सभी जनपदों में दुग्ध उत्पादकों, काश्तकारों के चीज, खोया,छुपी, बद्री घी आदि उत्पादन विक्रय हेतु 30 ग्रोथ सेन्टर खोलने हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि सरकार इस वर्ष को रोजगार वर्ष के रूप में मना रही है। माननीय मुख्य मंत्री ने सभी विभागों से रिक्त पदों की सूची मांगते हुए भर्तीयां कराने के निर्देश दिये है। उन्होने डेरी विभाग, दुग्ध संघो, पशुआहारशाला रूद्रपुर में स्वीकृत पदो के सापेक्ष जो रिक्त पद है उन्हे सीधी भार्ती, प्रतिनियुक्ति व आउट सोर्स से भरने हेतु 15 दिन में विज्ञापन निकालने के निर्देश दिये।


दुग्ध मंत्री ने कहा कि मुख्य मंत्री का लक्ष्य महिलाओं को घास के बोझ से निजात दिलाना है, घास का विकल्प पशुआहार साईलेज है इसलिए मक्का उत्पादन को बढाने हेतु किसानों को जागरूक कर प्रेरित किया जाय। उन्होने बागेश्वर व रूद्रप्रयाग में दुग्ध उत्पादन बढाने हेतु एन.सी.डी.सी योजनान्र्तगत दुधारू पशु लेने हेतु प्रेरित करें तथा उनसे प्राप्त प्रार्थनाओं पर बैकों से समन्वय स्थापित करते हुए ऋण उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होने कहा कि एनसीडीसी योजना के अन्र्तगत दुधारू पशुओं हेतु ऋण का 50 प्रतिशत धनराशि राज्य सरकार अनुदान देगी।
समीक्षा दौरान निदेशक डेरी जीवन सिंह नगन्याल ने बताया कि प्रदेश में 11 दुग्धशालायें है जिनकी 2.70 लाख लीटर कार्यरत है तथा 164 दुग्ध मार्गो पर 4189 दुग्ध सहकारी समितियां गठित है 159 लाख दुग्ध उत्पादक सदस्य है जिसमे से 50 हजार पोरर दुग्ध उत्पादन सदस्यों के साथ ही 1190 महिला डेरी समितियों के 43 महिलाओं की प्रत्यक्ष भागीदारी है। उन्होने बताया कि 02लाख किलोग्राम प्रतिदिन औसत दैनिक दुग्धोपार्जन है तथा तरल दुध बिक्री 157 लाख लीटर अधिक है। उन्होने बताया कि दुग्ध उत्पादकों को प्रोसाहन राशि हेतु 12 करोड की धनराशि प्राप्त हुई थी जिसे डीबीडी के माध्यम से लाभार्थियों के खाते में डाल दी गई है। उन्होने बताया कि गंगा गाय महिला डेरी योजना के अन्तर्गत प्रदेश के जनपदों में 361 के सापेक्ष 381 प्रार्थना पत्र बैकों को भेजे गये, बैकों द्वारा 358 प्रार्थना पत्रों पर ़ऋण स्वीकृत करते हुए 355 को ऋण वितरित कर दिया गया है व लाभायार्थियों द्वारा 355 दुधारू पशु भी क्रय कर लिये गये है।

यह भी पढ़ें -  तीन दिवसीय इंडिया ट्रैवल मार्ट (आईटीएम) का हुआ समापन

बैठक में लालकुऊॅआ दुग्ध संघ अध्यक्ष मुकेश बोरा, उपनिदेशक संजय उपाध्याय, सामान्य प्रबन्धक यूसीडीएफ एके नेगी, वित्त अधिकारी कमलेश भण्डारी, पशुआहार प्रबन्धक अजय क्वीरा, सहायक निदेशक बीएस बिष्ट, राम प्रसाद, दुग्ध संघ प्रबन्धक डाॅ. एचएस कुटौला, अभियंता आरएन तिवारी, दुग्ध निरीक्षक विजय प्रकाश आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें -  देहरादून कोरोना अपडेट- मंगलवार को 89 व्यक्तियों की रिपोर्ट आई पाॅजिटिव

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page