कुमाऊं में जल गुणवत्ता प्रशिक्षण की अभिविन्यास प्रसार प्रशिक्षण कार्यक्रम कार्यशाला का हुआ आयोजन

ख़बर शेयर करें

उत्तराखंड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद यूकोस्ट देहरादून तथा उत्तराखंड जल संस्थान देहरादून के संयुक्त तत्वाधान में गठित प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट पी एम यू द्वारा बायो टेक्नोलॉजी तथा भैषज विज्ञान विभाग कुमाऊं विश्वविद्यालय भीमताल नैनीताल के संयुक्त प्रयासों से भीमताल में बायो टेक्नोलॉजी विभाग में एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया। कुमाऊं क्षेत्र की शिक्षण संस्थाओं व हित धारकों के लिए अभिविन्यास प्रसार प्रशिक्षण कार्यशाला के उदघाटन समारोह के मुख्य अतिथि के सिंह निदेशक उत्तराखंड बायोटेक्नोलॉजी परिषद हल्दी उधम सिंह नगर ने अपने समग्र व्याख्यान में कहा कि जल गुणवत्ता के प्रभावी नियंत्रण वह जानकारी से मानव संस्थान मानव स्वास्थ्य की रक्षा की जा सकती है उन्होंने बायोलॉजिकल गुणवत्ता मानकों के प्रशिक्षण व विस्तार की उत्तराखंड में जरूरत पर जोर दिया कुमाऊं विश्वविद्यालय के भीमताल परिषद के निदेशक प्रोफेसर पी सी कवि दयाल उद्घाटन समारोह के सम्मानित अतिथि ने अपने संबोधन में प्रतिभागियों से कहा कि जल गुणवत्ता के प्रशिक्षण व जानकारी की जागरूकता को गढ़वाल के साथ कुमाऊं मंडल में प्रत्येक जिले व ब्लॉक तक पहुंचाया जाना चाहिए तथा शिक्षण संस्थाओं व हित धारकों को इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की आवश्यकता है।

Matrix Hospital

कार्यक्रम का स्वागत संबोधन प्रोफेसर बीना पांडे विभागाध्यक्ष बायो टेक्नोलॉजी कुमाऊं विश्वविद्यालय भीमताल परिसर तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ कुमुद उपाध्याय फार्मेसी विभाग भीमताल ने दिया । कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर प्रशांत सिंह समन्वय की कॉस्ट पीएमयू ने किया ।
तकनीकी सत्र में उत्तराखंड बायो टेक्नोलॉजी परिषद हल्दी उधम सिंह नगर के वैज्ञानिक डॉक्टर मनिंदर मोहन उत्तराखंड जल संस्थान के सहायक इंजीनियर मनोज गंगवार तथा डीएवी महाविद्यालय देहरादून के डॉक्टर प्रशांत सिंह ने अपने तकनीकी व आमंत्रित व्याख्यान द्वारा संबोधित विषयों पर उपस्थित लोगों को जानकारी दी ।

यह भी पढ़ें -  मेलाधिकारी दीपक रावत ने सिंचाई विभाग के भीमगोडा बैराज के मुख्य कंट्रोल रूम का किया निरीक्षण


प्रशिक्षण सत्र में मुख्य प्रशिक्षण उत्तराखंड जल संस्थान की देहरादून स्थित प्रादेशिक जल गुणवत्ता जांच व अनुश्रवण प्रयोगशाला के तकनीकी प्रबंधक डॉ विकास कंडारी ने दिया। इसके अंतर्गत टेस्टिंग किट की सहायता से 10 जल गुणवत्ता मानकों की सहायता से दूरस्थ क्षेत्रों में स्थित पेयजल स्रोतों की जांच का स्थलीय निरीक्षण एवं परीक्षण की विधि सिखाए। कार्यक्रम के अंत में कार्यशाला का सारांश पीएमयू एवं यू कॉस्ट के समन्वय डॉ प्रशांत सिंह ने दिया । कोविड-19 मानकों का पालन कर पालन करते हुए आयोजित प्रशिक्षण कार्यशाला में लगभग 100 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य सरकार "दिव्य और भव्य कुम्भ" के लिए प्रतिबद्ध है

कार्यशाला में डॉ अनिता सिंह, डॉ धीरज बिष्ट, डॉ रिशेंद्र कुमार, डॉ विकास कंडारी, मनिन्दर मोहन, मयंक पांडेय, आदेश कुमार, डॉ प्रवीण ध्यानी गोविंद राजपाल, कोमल चंद्रा, मीना कौसर आदि उपस्थित रहे

Ad-Pandey-Cyber-Cafe-Nainital
Ad-Jamuna-Memorial
लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page