पूर्व सृजित पदों पर हुआ कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल एवं सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में विधिवत बंटवारा

ख़बर शेयर करें




शासन से प्राप्त दिशानिर्देशानुसार कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल एवं सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा में पूर्व सृजित पदों पर आज दिनाँक १८ जून २०२१ को विधिवत बंटवारा हुआ। उल्लेखनीय है कि सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा पूर्व में कुमाऊँ विश्वविद्यालय का ही एक परिसर था परन्तु शासन द्वारा बीते वर्ष आवासीय विवि का एसएसजे परिसर में विलय करते हुए सोबन सिंह जीना विवि का गठन कर दिया था। नए विवि के गठन के बाद एसएसजे परिसर सहित अल्मोड़ा, बागेश्वर, पिथौरागढ़ और चंपावत जिलों के सभी महाविद्यालय कुमाऊं विवि से अलग करके नए विवि से संबद्ध कर दिए गए थे।

कुमाऊँ विश्वविद्यालय नैनीताल के प्रशासनिक भवन में दोनों विश्वविद्यालयों के अधिकारियों की एक उच्चस्तरीय बैठक में सर्वसम्मिति से पृथक विश्वविद्यालय बनने से पूर्व सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा हेतु सृजित शैक्षिक एवं शिक्षणेत्तर पदों को सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा को शासनादेश सहित विधिवत हस्तांतरित कर दिया गया। बैठक में तय किया गया कि इसके उपरांत जिस विश्वविद्यालय के सापेक्ष जो पद सृजित हैं उन पदों पर कार्यरत कार्मिकों पर समस्त प्रशासनिक नियंत्रण सम्बंधित विश्वविद्यालय का रहेगा।

यह भी पढ़ें -  डबललेन सड़कों से जुड़ेंगे विकास खण्ड मुख्यालय: सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

इस अवसर पर कुमाऊँ विश्वविद्यालय के कुलसचिव श्री दिनेश चंद्रा ने आज के दिन को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि दोनों विश्वविद्यालय आगे भी आपसी समन्वय से लोगों की अपेक्षा के अनुसार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देकर पहाड़ के युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा करने का प्रयास करेंगे।

इस बैठक में निदेशक डी०एस०बी० परिसर नैनीताल प्रो० एल०एम० जोशी, कुलसचिव सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय डॉ० बिपिन चंद्र जोशी, निदेशक सोबन सिंह जीना परिसर अल्मोड़ा प्रो० जगत सिंह बिष्ट, वित्त नियंत्रक कुमाऊँ विश्वविद्यालय श्री एल०आर० आर्या, उप कुलसचिव कुमाऊँ विश्वविद्यालय श्री दुर्गेश डिमरी, श्री नीरज साह, श्री जे०एस० मेहरा, श्रीमती पारवती आर्या आदि उपस्थित रहे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page