दुनिया का महानतम वैक्स म्यूजियम “मैडम तुसाद” आम जनता के लिए 19 जुलाई को खुला

ख़बर शेयर करें

दुनिया का महानतम वैक्स म्यूजियम “मैडम तुसाद” नोएडा में आम जनता के लिए 19 जुलाई को खुला

सेलिब्रिटी के अंदाज का अनुभव कराने की सबसे बेमिसाल जगह, डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया, नोएडा में स्थित है

देहरादून- दुनिया भर में सबसे ज्यादा पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करने वाली कंपनियों में से एक मर्लिन एंटरटेनमेंट्स ने आज भारतीय बाजार में दोबारा अपनी एंट्री की घोषणा की। कंपनी ने बिल्कुल नए अवतार में एक नई जगह पर मैडम तुसाद संग्रहालय खोलने की घोषणा की है। भारत में मैडम तुसाद संग्रहालय अब नोएडा के डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया में खोला गया है। इस जगह मेहमानों को कुछ नए आकर्षण देखने को मिलेंगे। यह डिस्प्ले पूरी तरह दर्शकों को अलग दुनिया में लेकर जाएंगे और उन्हें एक अलग अनुभव कराएंगे। इसके साथ उन्हें अपने फेवरेट सिलेब्रिटी और रोल मॉडल के बारे में जानने का भी मौका मिल सकेगा।

भारत को अपने समृद्ध् सांस्कृतिक इतिहास, बॉलीवुड के चमकते सितारों और मनोरंजन के क्षेत्र में विविधता के लिए जाना जाता है। यह एक बेहतरीन जगह है, जो सभी को अपनी ओर आकर्षित करती है। मैडम तुसाद के लिए इस नए संग्रहालय में अलग-अलग क्षेत्रों, इतिहास, खेलकूद, संगीत, फिल्म और टीवी आदि क्षेत्रों के प्रतिभाशाली और लोकप्रिय 50 हस्तियों के मोम के पुतले लगे हैं। मोम के इस पुतले को 20 अंतरराष्ट्रीय कलाकारों ने तैयार किया है, जिन्होंने इन पुतलों में अलग तरह का नया जादू जगाने के लिए एक साथ मिलकर 3-6 महीने तक काम किया है। इस जगह के आकर्षण और मैडम तुसाद संग्रहालय ने काफी लंबे समय से दर्शकों के दिल में अपने लिए खास जगह बनाई है। यह यहां आने वाले पर्यटकों और मेहमानों को कभी न भूलने वाला सितारों से जड़ा यादगार अनुभव प्रदान करेगी।

16 हजार वर्गफीट से ज्यादा जगह में फैले इस म्यूजियम में अलग-अलग क्षेत्रों में लोकप्रिय शसिख्यतों के पुतले लगे हैं। यह म्यूजियम 19 जुलाई 2022 से आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा। यहां आने वाले मेहमानों को कई अंतरराष्ट्रीय और घरेलू शख्सियतों के मोम के पुतलों को देखने का मौका मिलेगा, जिससें मौजूदा और दिवगंत दोनों हस्तियां शामिल होंगी। इस वैक्स म्यूजियम में माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भारत के महानतम स्वतंत्रता सेनानी जैसे महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस , मशहूर क्रिकेट खिलाड़ियों जैसे सचिन तेंदुलकर, कपिल देव, विराट कोहली, बॉलीवुड की शख्सियतों, शाहरुख खान, सलमान खान, अनिल कपूर, कैटरीना कैफ और मधुबाला के पुतलों के साथ मशहूर सिंगर्स आशा भोंसले और सोनू निगम के पुतले देखने को मिलेंगे। छोटे बच्चों को यहां अपने मनपसंद कार्टून कैरेक्टर से मिलने का मौका मिलेगा, जिसमें मोटू-पतलू भी शामिल है।

यह भी पढ़ें -  नैनिताल जिला बार एसोसिएशन का चुनाव कार्यक्रम हुआ जारी

मर्लिन एंटरटेनमेंट्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के महा प्रबंधक और निदेशक श्री अंशुल जैन ने कहा, “हमें यह घोषणा करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि दुनिया का सबसे मशहूर वैक्स म्यूजियम, मैडम तुसाद संग्रहालय अब भारत में खोला जा रहा हैं। अब भारत में मैडम तुसाद संग्रहालय एक नई और रोमांचक जगह, नोएडा के डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया में खुला है। ये मोम के आकर्षक पुतले भारतीय उपभोक्ताओं को जानी मानी हस्तियों और शख्सियतों को एक अनोखे अंदाज में देखने का अवसर प्रदान करेंगे। असल में मुझे पूरी उम्मीद है कि इन पुतलों को देखने के लिए न सिर्फ दिल्ली-एनसीआर, बल्कि पूरे देश से लोग आएंगे। हमने भारतीय सुपरस्टार्स पर ज्यादा फोकस किया है। हमने पता है कि भारतीय लोग और मेहमान उन हस्तियों के पुतले यहां देखकर बहुत खुश होंगे, जिन्होने कई तरीकों से उनकी जिंदगी पर असर डाला है। मैडम तुसाद म्यूजियम यहां आने वाले हरेक मेहमान के लिए उनकी विजिट को शानदार, जादुई और अनोखा बना देगा, जिसे वह आने वाले कई सालों तक याद रखेगे।”

मर्लिन एंटरटेनमेंट्स ग्रुप में मिडवे एशिया पैसिफिक के डिविजनल डायरेक्टर श्री रॉब स्मिथ ने कहा, “हम काफी खुश हैं क्‍योंकि हम सभी मेहमानों के चेहरे पर आने वाली मुस्कान और उत्साह को देखने के लिए बहुत बेताब हैं। यहां आने वाले लोगों को अलग-अलग क्षेत्रों में मशहूर हुए कई भारतीय और इंटरनेशनल सुपरस्टार्स से मिलने का मौका मिलेगा। लोगों के पसंदीदा मैडम तुसाद संग्रहालय में लोगों का स्वागत करना हमारे लिए एक अनोखा अनुभव होगा। इसके अलावा हम अपने मेहमानों को उनका सबसे पसंदीदा आकर्षण एक नए अवतार और नई लोकेशन, डीएलएफ, मॉल ऑफ इंडिया में प्रदान करने के प्रति काफी उत्साहित हैं।”

यह भी पढ़ें -  संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रतीक जैन की पहल पर 22 नवम्बर को डीएसबी परिसर में लगाया जाएगा शिविर

डीएलएफ रिटेल लिमिटेड की कार्यकारी निदेशक मिस पुष्पा बेक्टर ने कहा, “मैडम तुसाद संग्राहलय का भारत में खुलने का काफी समय से इंतजार किया जा रहा था। हम इस मॉल को खोलने में उनकी पसंद के पार्टनर बनकर काफी खुश हैं। डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया में मनोरंजन हमारे प्रमुख आकर्षणों में से एक लगातार बना हुआ है। इस नई लॉन्चिंग से हम अपने सभी आयुवर्ग के दर्शकों को पूरी तरह नया और अनोखा अनुभव प्रदान करेंगे। डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया भारत में कुछ प्रमुख रिटेल ब्रैंड्स का हब है। हम यहां अपने ग्राहकों को अपनी नई पेशकशों का शानदार मिश्रण उपलब्ध कराना जारी रखेंगे।”

डीएलएफ शॉपिंग मॉल में एसवीपी और हेड ऑफ मॉल ऑपरेशंस श्री मनीष मेहरोत्रा ने कहा, “डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया हमेशा से यहां आने वाले मेहमानों को बेमिसाल अनुभव कराने के लिए अग्रिम मोर्चे पर डटा रहा है। ये अलग रिटेल ब्रांड्स के कैटलॉग का हब है। इस मॉल का विकास मेहमानों और उपभोक्ताओं की नई-नई और उभरती हुई जरूरतों को देखते हुए किया गया है। हम मैडम तुसाद के साथ साझेदारी कर बेहद उत्साहित हैं। इससे हमारा लक्ष्य मॉल में आने वाले लोगों को ज्यादा से ज्यादा मनोरंजन प्रदान करना है। इसके लिए हम अपना दायरा और सीमाओं को बढ़ा रहे हैं। हमारे मेहमानों को अब अपनी पसंदीदा शख्सियत को करीब और व्यक्तिगत रूप से देखने का अवसर मिलेगा। इससे वह ऐसा रोमांच महसूस कर पाएंगे, जैसा उन्होंने पहले कभी महसूस नहीं किया होगा। हम अपने मेहमानों और उपभोक्ताओ को तरह तरह के अनोखे तरीकों और रोमांचक फॉर्मेट से लुभाने के लिए तैयार हैं, जिससे वह इस मॉल में दोबारा लौट कर आएं।“

उद्घाटन के दिन से डीएलएफ मॉल ऑफ इंडिया के चौथे फ्लोर पर मैडम तुसाद संग्रहालय के काउंटर पर पहुंचकर आप यहां के टिकट खरीद सकेंगे। मैडम तुसाद संग्रहालय के टिकट वयस्कों के लिए 960 रुपये और बच्चों के लिए 760 रुपये में उपलब्ध हैं। इसमें मेहमानों को यह सुविधा मिलेगी कि जिस दिन का टिकट उन्होंने बुक किया है, उस दिन कभी भी, किसी के समय वह यहां जा सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए कृपया www.merlinentertainments.biz पर जाएं और ट्विटर पर @MerlinEntsNews फॉलो करें

Ad
Ad
Ad
Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page