पर्यटक कल से विश्व धरोहर फूलों की घाटी का कर सकेंगे दीदार

ख़बर शेयर करें


डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला
दून विश्वविद्यालय, देहरादून, उत्तराखंड
फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड राज्य में पश्चिम हिमालय में स्थित एक भारतीय राष्ट्रीय उद्यान है और यह स्थानिक अल्पाइन फूलों और वनस्पतियों की विविधता के अपने घास के लिए जाना जाता है। यह समृद्ध विविध क्षेत्र दुर्लभ और लुप्तप्राय जानवरों का घर भी है, जिनमें एशियाई काले भालू, बर्फ तेंदुए, कस्तूरी हिरण, भूरे भालू, लाल लोमड़ी, और नीली भेड़ शामिल हैं। पार्क में पाए गए पक्षियों में हिमालयी मोनल फिजेंट और अन्य उच्च ऊंचाई वाले पक्षी शामिल हैं। समुद्र तल से 3352 से 3658 मीटर की दूरी पर, फूलों की राष्ट्रीय घाटी के सभ्य परिदृश्य पूर्व में नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान के ऊबड़ पर्वत जंगल को पूरा करता है। साथ में, वे जांस्कर और ग्रेट हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं के बीच एक अद्वितीय संक्रमण क्षेत्र शामिल हैं। पार्क 87.50 किमी 2 के विस्तार से फैला है और यह लगभग 8 किमी लंबा और 2 किमी चौड़ा है। दोनों पार्क नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व (223,674 हेक्टेयर) में शामिल हैं जो आगे बफर जोन (5,148.57 किमी 2) से घिरा हुआ है। इसकी पहुंच के कारण बाहरी दुनिया को जगह कम जानकारी थी। 1931 में, फ्रैंक एस स्माइथ, एरिक शिपटन और आरएल होल्ड्सवर्थ, सभी ब्रिटिश पर्वतारोहियों ने माउंट कैमेट के सफल अभियान से लौटने के दौरान अपना रास्ता खो दिया और घाटी पर हुआ, जो फूलों से भरा था। वे क्षेत्र की सुंदरता के लिए आकर्षित हुए और इसे “फूलों की घाटी” नाम दिया। फ्रैंक स्माइथ ने बाद में उसी नाम की एक पुस्तक लिखी।1939 में, जोन मार्गरेट लीज, (21 फरवरी 1885 – 4 जुलाई 1939) रॉयल बोटेनिक गार्डन, केव द्वारा नियुक्त एक वनस्पतिविद, घाटी पर फूलों का अध्ययन करने के लिए पहुंचे और कुछ चट्टानी ढलानों को फूल इकट्ठा करने के दौरान, वह फिसल गई और अपना जीवन खो दिया। उसकी बहन ने बाद में घाटी का दौरा किया और जगह के पास एक स्मारक बनाया।नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान रिजर्व यूनेस्को विश्व नेटवर्क ऑफ बायोस्फीयर रिजर्व में है।विश्व धरोहर फूलों की घाटी के गेट खोलने को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। नंदा देवी राष्ट्रीय पार्क प्रशासन के अनुसार फूलों की घाटी पैदल मार्ग से हिमखंड हटाने का कार्य शुरू कर दिया गया है। जल्द दो स्थानों पर पैदल पुल का निर्माण कार्य भी शुरू हो जाएगा। घाटी का गेट हर साल एक जून को खोला जाता है।चमोली जिले में समुद्रतल से 12995 फीट की ऊंचाई पर स्थित फूलों की घाटी में इस साल दो फीट बर्फ जमी है। जबकि, बामणधौड़, ध्वारीपैरा, मेरी की कब्र व घुसाधार में बड़े-बड़े हिमखंड खड़े हैं। खास बात यह कि घाटी में इस बार समय से पूर्व ही फूल खिलने लगे हैं। वर्तमान में पोटेंटीला, ब्लू पॉपी, वाइल्ड रोज समेत 20 प्रजाति के फूल खिले हुए हैं। फूलों की घाटी वन प्रभाग के वन क्षेत्राधिकारी ने बताया कि कोरोना गाइडलाइन के अनुसार ही इस बार फूलों की घाटी को टूरिस्ट्स के लिए खोला जाएगा। हालांकि, विभाग ने अपने स्तर से गेट खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। पैदल मार्ग से हिमखंड हटाने के साथ क्षतिग्रस्त पुलों की मरम्मत की जा रही है। वन्य जीवों की सुरक्षा के लिए घाटी की गश्त भी शुरू की गई है।फूलों की घाटी के आगंतुकों को घंगरिया में वन विभाग से परमिट प्राप्त करने की आवश्यकता है और परमिट तीन दिनों के लिए मान्य है और यात्रा के समय और ट्रेकिंग केवल दिन के दौरान ही अनुमति दी जाती है। चूंकि आगंतुकों को राष्ट्रीय उद्यान के अंदर रहने की अनुमति नहीं है, फूलों में अद्भुत औषधीय गुण होते हैं और यहाँ मिलने वाले सभी फूलों का दवाइयों में इस्तेमाल होता है। और हृदय रोग, अस्थमा, शुगर, मानसिक उन्माद, किडनी, लीवर और कैंसर जैसी भयानक रोगों को ठीक करने की क्षमता वाली औषधिया भी यहाँ पाई जाती है, मैंने वैली ऑफ़ फ़्लावर्स के बारे में काफ़ी कुछ पढ़ा था लेकिन जब इसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त की और जो महसूस हुआ वह शब्दों में बयान नहीं हो सकता।इसके अलवा यहाँ सैकड़ों बहुमूल्य जड़ी-बूटियाँ और वनस्पति पाए जाते हैं जो की अत्यंत दुर्लभ हैं और विश्व में कही और नहीं पाए जाते, जो की इस घटी को और भी अधिक सुन्दर और महत्वपूर्ण बना देते है, पर्यटकों को यहाँ आने के लिए ऋषिकेश से गोविंदघाट तक मोटर मार्ग और फिर गोविंदघाट से सत्रह किलोमीटर का पैदल रास्ता तय करना होता है।
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले कुछ वर्षो में पूरी देखरेख न होने से यहाँ बड़े पैमाने पर जड़ी बूटियों की तस्करी होने लगी थी। लेकिन दस साल पहले यहाँ लोगों के आने-जाने पर पाबंदी लगा दी गई थी लेकिन इस साल कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने के कारण इसे खोलने में देरी हो गई। इस घाटी में पर्यटकों को प्रवेश कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट के साथ मिलेगा। आने वाले सभी पर्यटकों को नियमों के मुताबिक 72 घंटे पहले तक की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट अपने साथ लाना होगी। अन्य नियमों का भी पालन करना होगा। फूलों की 300 प्रजातियों के लिए इस वैली में इस मौसम में कंवर के मुताबिक कम से कम 50 प्रजातियों के फूल शबाब पर हैं। इनमें ब्लू पॉपी और डैक्टिलॉर्ज़िया जैसे फूल खिल चुके हैं, जो विलुप्ति के कगार पर पहुंच चुकी प्रजातियां हैं।
लेखक द्वारा उत्तराखण्ड सरकार के अधीन उद्यान विभाग के वैज्ञानिक के पद पर का अनुभव प्राप्त हैं, वर्तमान दून विश्वविद्यालय में कार्यरत है.

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page