कुलपति के निर्देश पर कुविवि के उच्चाधिकारियों की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

Ad
ख़बर शेयर करें


कुलपति के निर्देश पर कुविवि के उच्चाधिकारियों की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय।
4 अक्टूबर से आयोजित होने वाली स्नातक प्रथम वर्ष की परीक्षा होगी यथावत आयोजित।
– स्नातक प्रथम वर्ष का परीक्षाफल होगा लिखित परीक्षा में अर्जित अंकों एवं इंटरमीडिएट के अंकों के आधार पर घोषित।
– 70 प्रतिशत अधिमान लिखित परीक्षा में अर्जित अंकों से एवं 30 प्रतिशत अधिमान इंटरमीडिएट के कुल प्राप्तांको से लिया जायेगा।

– प्रयोगात्मक परीक्षाओं में छात्र-छात्रा द्वारा प्राप्त अंकों को रखा जायेगा यथावत।

आज 3 अक्टूबर 2021 को कुमाऊँ विश्वविद्यालय के उच्चाधिकारियों की एक बैठक आयोजित हुई जिसमें स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों हेतु 4 अक्टूबर से आयोजित होनी वाली परीक्षाओं के सन्दर्भ में कोविड-19 से उत्पन्न विषम परिस्थितियों के कारण बाधित हुई पढ़ाई के चलते विभिन्न महाविद्यालयों के प्राचार्यों, छात्र संगठनो एवं विद्यार्थियों के निवेदन पर विचार किया गया।

ज्ञात हो कि दो दिन पूर्व शुक्रवार को विद्यार्थी परिषद से जुड़े छात्रों द्वारा प्रशासनिक भवन मे 4 अक्टूबर से आयोजित होने वाली स्नातक प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षा को निरस्त कर मानकों के आधार पर परीक्षाफल घोषित करने अथवा ओपन बुक सिस्टम से परीक्षा करवाने अथवा आंतरिक परीक्षा एवं असाइनमेंट के अंकों के आधार पर प्रमोट करने हेतु प्रदर्शन किया गया था। परन्तु विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा 4 अक्टूबर से आयोजित होने वाली परीक्षाओं को स्थगित करने अथवा परीक्षाओं के पैटर्न को परिवर्तित करने से पूर्ण इंकार कर दिया गया था। विश्वविद्यालय प्रशासन से अपनी मांगों को मनवाने हेतु रात 10 बजे तक छात्रों द्वारा प्रदर्शन एवं घेराव किया गया। अंत में कोविड-19 से उत्पन्न विषम परिस्थितियों को देखते हुए छात्रों की मांगों को उच्चाधिकारियों की बैठक में रखकर उनमें व्यापक छात्र-हित में विचार करने पर सहमति बनी थी।

यह भी पढ़ें -  पर्वतीय इलाकों में बांज के जंगलों बांज प्रजातियों का अस्तित्व

मा० कुलपति प्रो० एन०के० जोशी के निर्देशों के अनुपालन में आज 3 अक्टूबर 2021 को आयोजित उच्चाधिकारियों की बैठक में व्यापक छात्र हित में निर्णय लिया गया है कि कोविड-19 से उत्पन्न विषम परिस्थितियों के कारण बाधित हुई पढ़ाई के दृष्टिगत स्नातक प्रथम वर्ष (बी०ए०/बीएस०सी०/ बी०कॉम०) के विद्यार्थियों का परीक्षाफल को उनके प्रथम वर्ष के प्रश्नपत्रों की लिखित परीक्षा में अर्जित अंकों एवं पूर्व योग्यता परीक्षा (इंटरमीडिएट) के अंकों के आधार पर घोषित किया जाएगा। जिसमें 70 प्रतिशत अधिमान प्रथम वर्ष के प्रश्नपत्रों की लिखित परीक्षा में अर्जित अंकों से एवं 30 प्रतिशत अधिमान पूर्व योग्यता परीक्षा (इंटरमीडिएट) के कुल प्राप्तांको से लिया जायेगा। बैठक में यह भी तय किया गया कि प्रयोगात्मक परीक्षाओं में छात्र-छात्रा द्वारा प्राप्त अंकों को यथावत रखा जायेगा साथ ही अगर कोई विद्यार्थी लिखित परीक्षा में अनुपस्थित रहता है तो उपरोक्त मानकों के अनुरूप सम्बंधित विद्यार्थी का परीक्षाफल घोषित करना संम्भव नहीं होगा।

यह भी पढ़ें -  सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने समस्त प्रदेशवासियों को दी गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

इस बैठक में कुलसचिव श्री दिनेश चंद्रा, वित्त नियंत्रक श्री आर०एल० आर्या, निदेशक जे०सी० बोस परिसर भीमताल प्रो० पी०सी० कविदयाल, संकायाध्यक्ष विज्ञान प्रो० एस०सी० सती, संकायाध्यक्ष वाणिज्य प्रो० अतुल जोशी, संकायाध्यक्ष कला प्रो० आर०के० पांडे, संकायाध्यक्ष दृश्यकला प्रो० एम०एस० मावरी, अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो० डी०एस० बिष्ट, कुलानुशासक डी०एस० परिसर प्रो० नीता बोरा शर्मा, परीक्षा नियंत्रक प्रो० एच०सी०एस० बिष्ट, उप परीक्षा नियंत्रक डॉ० रितेश साह, सहा० परीक्षा नियंत्रक डॉ० गगनदीप होती आदि के साथ ही अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 वॉट्स्ऐप पर समाचार ग्रुप से जुड़ें

👉 फ़ेसबुक पर जुड़ने हेतु पेज लाइक-फॉलो करें

👉 हमारे मोबाइल न० 9410965622 को अपने ग्रुप में जोड़ कर आप भी पा सकते है ताज़ा खबरों का लाभ

👉 विज्ञापन लगवाने के लिए संपर्क करें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page