पेप्वाइंट ने कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को भारत के वंचित ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद अपने ग्राहकों तक पहुंचाया

ख़बर शेयर करें

देहरादून, – देश के कोने-कोने में बसे आखिरी व्यक्ति को वित्तीय सेवाएं प्रदान करने वाली पेप्वाइंट इंडिया ने कोविड-19 हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी देने की शुरुआत की है। इस पॉलिसी को ग्रामीण क्षेत्रों समेत भारत के सभी सेवा-वंचित इलाकों में मौजूद ग्राहकों तक पहुंचाया जाएगा। यह सुरक्षा प्लान केवल 799 रुपए का प्रीमियम भरने पर 2 लाख रुपए तक का हॉस्पिटलाइजेशन खर्च कवर करता है।

पूरे भारत में 60,000 से अधिक रिटेल स्टोर रखने वाली पेप्वाइंट ने गो डिजिट जनरल इंश्योरेंस के साथ हाथ मिलाया है। ग्रामीण परिवारों को ज्यादा से ज्यादा कोरोना वायरस सुरक्षा कवर देने तथा सुदूर क्षेत्रों में इंश्योरेंस की पैठ बनाने के लिए यह साझेदारी की गई है। ग्राहकों को पॉलिसी की विशेषताओं के बारे में पेप्वाइंट के द्वारा अच्छी तरह से समझाया जाएगा ताकि वे इस उत्पाद और इसके लाभों से भलीभांति परिचित हो सकें।

पेप्वाइंट इंडिया के प्रबंध निदेशक केतन दोशी ने कहा, ष्एक ऐसे समय में जब देश बड़े मुश्किल दौर से गुजर रहा है, शहरी भारत के 80ः से अधिक तथा ग्रामीण भारत के 85% से अधिक लोगों के पास स्वास्थ्य में होने वाले खर्च का कोई कवरेज ही नहीं है! कोविड-19 से संबंधित दावे निपटाने में या तो मामलों को नामंजूर कियाजा रहा है या फिर भुगतान में बड़ी कटौती हो रही है। इसके साथ-साथ बढ़े हुए मेडिकल खर्च के कारण इलाज करवाना जेब पर बहुत भारी पड़ रहा है। ऐसे परिदृश्य में कोरोना वायरस के लिए पूरी तरह से समर्पित यह सुरक्षा कवर हमारे ग्राहकों को हॉस्पिटलाइजेशन के वित्तीय बोझ से बचाएगा।“

यह भी पढ़ें -  राज्य महिला आयोग द्वारा आयोजित महिला जागरूकता शिविर का किया आयोजन

प्रीमियम और लाभः

मात्र 487 रुपए की प्रीमियम दर से शुरू होने वाली कोरोना वायरस इंश्योरेंस पॉलिसी 24 घंटे के आईसीयू या एचडीयू हॉस्पिटलाइजेशन के पश्चात न्यूनतम 1 लाख रुपए का लाभ प्रदान करती है। पूरे भारत में मौजूद पेप्वाइंट स्टोर पर उपलब्ध यह मास्टर पॉलिसी 65 वर्ष तक की उम्र के व्यक्तियों को 1 लाख रुपए या 2 लाख रुपए की बीमा राशि चुनने का विकल्प पेश करती है।

यह इंश्योरेंस 30 दिनों तक के लिए प्री- हॉस्पिटलाइजेशन शुल्क कवर करता है, 60 दिनों तक के लिए पोस्ट- हॉस्पिटलाइजेशन शुल्क कवर करता है, और रोड एम्बुलेंस शुल्क (आपकी चुनी हुई बीमा राशि का 1 प्रतिशत- 5,000 रुपए तक) भी कवर करता है। इतना ही नहीं, दूसरी मेडिकल पॉलिसी की तरह यह रूम रेंट या आईसीयू शुल्कों की कोई ऊपरी सीमा तय नहीं करता। हालांकि इस कवर का वेटिंग पीरियड प्रीमियम का भुगतान होने वाली तारीख से केवल 15 दिनों तक का ही है।

यह भी पढ़ें -  ब्रेकिंग न्यूज़-उत्तराखंड में कई IAS अधिकारियों के हुए तबादले

कोई भी पॉलिसीधारक नेटवर्क के अस्पतालों में ई-हेल्थ कार्ड दिखाकर कैशलेस दावों का लाभ प्राप्त कर सकता है। इस पॉलिसी के तहत ग्राहक खुद को और अपने जीवनसाथी तथा बच्चों को एक साल के लिए कवर कर सकते हैं। इस प्रकार वे अपने पूरे परिवार के लिए एक मजबूत वित्तीय सुरक्षा कवच प्राप्त कर लेंगे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ें

👉 हमारे Facebook पेज़ को लाइक करें

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
You cannot copy content of this page